पूर्व चैंपियन श्रीलंका और बांग्लादेश कम रैंकिंग के चलते पुरुष टी-20 वर्ल्ड कप सुपर 12 के लिए सीधे क्वालीफाई करने में नाकाम रहे और अब उन्हें 2020 में होने वाले इस टूर्नामेंट में अपनी जगह बनाने के लिए ग्रुप चरण की प्रतियोगिता में हिस्सा लेना होगा.
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर सुपर 12 के लिए सीधे क्वालीफाई करने वाली टीमों की घोषणा कर दी. जिसके अनुसार सीधा प्रवेश पानी वालों में भारत, पाकिस्तान, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका, न्यूजीलैंड, वेस्टइंडीज और अफगानिस्तान शामिल हैं. पूर्व चैंपियन और तीन बार के उप विजेता श्रीलंका तथा बांग्लादेश को टूर्नामेंट के ग्रुप चरण में छह अन्य क्वालीफायर्स के साथ खेलना होगा.
ऑस्ट्रेलिया में 18 अक्टूबर से 15 नवंबर 2020 के बीच यह टूर्नामेंट होना है. क्वालीफिकेशन मानदंडों के अनुसार चोटी की आठ टीमों को सीधे सुपर 12 चरण में जगह मिलती है, जबकि बाकी दो टीमों को अन्य टीमों के साथ ग्रुप चरण में खेलना होता है. ग्रुप चरण की अन्य टीमों का निर्धारण 2019 में होने वाले आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप क्वालीफायर्स से होगा.
इस ग्रुप स्तर में उनके साथ छह अन्य क्रिकेट टीमें भी होंगी. ये छह टीमें 2019 में होने वाले क्वालीफायर में संघर्ष कर मुख्य टूनार्मेंट में स्थान हासिल करने की कोशिश करेंगी. ग्रुप स्तर से केवल चार टीमें सुपर-12 में अपनी जगह बना पाएंगी.
श्रीलंका के कप्तान लसिथ मलिंगा ने इस पर कहा कि यह थोड़ा निराशाजनक है कि हम सुपर 12 में सीधे जगह नहीं बना पाए. 2014 का चैंपियन सुपर 12 में जगह बनाने में असफल रहा, लेकिन मुझे पूरा विश्वास है कि हम टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन करेंगे.
बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन ने कहा कि हाल के प्रदर्शन से हमारी टीम का विश्वास बढ़ा है और हम इस चुनौती का डटकर सामना करेंगे. उन्होंने कहा कि मुझे ऐसा कोई कारण नजर नहीं आता जो हम टूर्नामेंट में आगे नहीं बढ़ सकें, अभी इसमें समय है और हम टी20 वर्ल्ड कप के लिए इसका उपयोग करेंगे. हमने वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 सीरीज जीती है जो विश्व चैंपियन रहा है, इससे अपनी टी20 क्षमताओं पर हमारा भरोसा बढ़ा है.’



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *