उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन में जगह न मिल पाने के बाद कांग्रेस अपनी बौखलाहट छिपा नहीं पा रही है और उसने UP में अपने दम पर लोकसभा चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया. साथ ही उन तमाम दलों को सामूहिक न्योता भी दे डाला जो UP में BJP को हराने के लिए कांग्रेस के साथ आना चाहते हैं.
कांग्रेस पार्टी के महासचिव और UP के प्रभारी गुलाम नबी आजाद तथा प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने लखनऊ में पार्टी की एक आधिकारिक प्रेस कॉन्फ्रेंस में घोषणा कर दी कि पार्टी उत्तर प्रदेश के सभी 80 सीटों पर पूरी ताकत के साथ लोकसभा चुनाव लड़ेगी. चुनावी बिगुल फूंकते हुए कांग्रेस ने कहा कि वह चुनाव में आश्चर्यजनक प्रदर्शन करेगी. आजाद ने कहा कि देश में होने वाले चुनाव में मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच ही होना है और इसके लिए पार्टी की तैयारियां शुरू हैं.
गुलाम नबी आजाद ने कहा कि हम तो चाहते थे कि भाजपा के विरुद्ध एक सशक्त गठबंधन हो, लेकिन उन्होंने हमारे साथ आना उचित नहीं समझा. हम सभी सीटों पर अकेले लड़ने के लिए तैयार हैं. हमारी तैयारी पूरी है और जो भी दल BJP को हराने के लिए हमारे साथ आना चाहते हैं, उन सबका स्वागत है. साथ ही उन्होंने कहा कि 2009 लोकसभा चुनाव (21 सीटों) की तुलना में इस बार कांग्रेस को दोगुनी सीटें मिलेंगी.
इस बीच ऐसी खबरें आ रही हैं कि कांग्रेस गठबंधन के लिए अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव के संपर्क में है. दूसरी ओर लोकदल एवं अन्य छोटे- छोटे दलों को उनके सामर्थ्य से अधिक सीटें देने का आफर देते हुए भी कांग्रेस UP में 4-5 दलों का गठबंधन लेकर चुनाव में उतरने की तैयारी में लगी है. उधर लोकदल नेताओं ने कहा था कि वह महागठबंधन में शामिल होना चाहते हैं, बातचीत चल रही है. हमें विश्वास है कि गठबंधन के नेता उनकी पार्टी को वाजिब हक देने को राजी होंगे. ज्ञात है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में UP की 80 लोकसभा सीटों में से 73 सीटों पर NDA को जीत मिली थी, वहीं समाजवादी पार्टी को 5 और कांग्रेस को सिर्फ दो सीटों पर जीत हासिल हुई थी. बाद के उपचुनाव के दौरान भाजपा को कैराना, गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट पर विपक्ष के संयुक्त प्रयास से भाजपा को हार का सामना करना पड़ा था.
शनिवार को ही सपा और बसपा ने मिलकर राज्य में 38-38 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है. इस गठबंधन से कांग्रेस को पूरी तरह बाहर रखते हुए उसके दो शीर्ष नेताओं सोनिया गाँधी एवं राहुल गाँधी के खिलाफ कोई उम्मीदवार नहीं उतारने की घोषणा की गयी है. दो सीटें इन्होंने अभी अपने पास रिजर्व रखी हैं, माना जा रहा है कि ये सीटें लोकदल के लिए रखी गयी हैं.
पहले यह माना जा रहा था कि UP में कांग्रेस, सपा, बसपा और एकाध छोटे दल मिलकर गठबंधन बना सकते हैं. परन्तु शनिवार को सपा और बसपा द्वारा गठबंधन कर 38-38 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा करने के बाद इस संभावना पर पूर्णविराम लगा माना जा रहा है. आज कांग्रेस ने भी राज्य में अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *