आम आदमी पार्टी के विधायकों ने दिल्ली सरकार के बर्खास्त मंत्री कपिल मिश्रा की विधानसभा में पिटाई कर दी और विधायकों ने स्वयं कपिल मिश्रा को विधानसभा से खींचते हुए बाहर भी कर दिया.
कपिल मिश्रा ने आप संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल पर लगातार भ्रष्टाचार के आरोप लगाकर दिल्ली सरकार के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं. इस घटना के बाद कपिल मिश्रा ने कहा कि वह केजरीवाल के करप्शन पर बोलना चाहते थे, मगर बोलने का मौका नहीं दिया गया. जब मैंने अपनी बात कहनी चाही, तो विधानसभा मे मदन लाल और जरनैल सिंह ने मुझे मारा-पीटा. पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने कहा कि उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के इशारे पर 4-5 विधायकों ने मुझे मारा.
पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने कहा कि- ‘मेरे साथ हाथापाई की गई, केजरीवाल के गुंडों ने मेरी छाती में लात-घूंसे मारे. इससे मेरे हाथ में चोट आई है. इसमें मदन लाल, जरनैल सिंह और अमानततुल्ला शामिल रहे. उन्होंने कहा कि वह केजरीवाल के किसी गुंडे से नहीं डरते हैं.

कपिल मिश्रा ने कहा कि वह तीन जून को अरविंद केजरीवाल और सत्येंद्र जैन के घोटालो का सच सबके सामने रखेंगे. पूर्व मंत्री ने कहा कि अरविंद केजरीवाल तुम्हारे सगे संबंधियों पर छापे पड़ रहे है. मैं किसी गुंडे से नहीं डरता हूं. मनीष सिसोदिया ने मारने के लिए इशारा किया था. इस घटना को देखकर सतेंद्र जैन और केजरीवाल सदन में हँस रहे थे.
कपिल मिश्रा ने केजरीवाल पर सतेंद्र जैन से 2 करोड़ रुपये लेने का आरोप लगाया था. केजरीवाल के खिलाफ मोर्चा खोलने के बाद कपिल मिश्रा ने आप नेताओं के विदेश दौरों की जानकारी भी मांगी थी. कपिल मिश्रा कई दिनों तक अनशन पर भी बैठे थे. केजरीवाल सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन, जल बोर्ड औऱ टैंकर घोटाले को लेकर कई आरोप भी कपिल मिश्रा ने लगाए थे. इसके अलावा आम आदमी पार्टी के चंदे में गड़बड़घोटाला और केजरीवाल के हवाला कारोबारियों से संलिप्तता का आरोप भी कपिल मिश्रा ने लगाया था. आम आदमी पार्टी ने कपिल मिश्रा के सभी आरोपों को गलत बताया था.

ताज़ा अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लाइक करें

loading…

Loading…





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *