मिसाइल की दुनिया में रूस ने एक क्रांतिकारी आविष्कार किया है। रूस अब ऐसे मिसाइलों का प्रोडक्शन करने जा रहा है, जिसकी मारक क्षमता 7400 किलोमीटर प्रति घंटे होगी। जिरकोन नाम के इस मिसाइल दागने के बाद इसके वापस नहीं लाया जा सकता है। इस मिसाइल का रेंज 400 किलोमीटर है।

भारत ने भी रूस के साथ मिलकर ब्रह्मोस मिसाइलों की दूसरी पीढ़ी का संस्करण तैयार करना शुरू कर दिया है। इस मिसाइल में भी उसी तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है जो जिरकान में प्रयोग किया गया है। हाँलाकि ब्रह्मोस मिसाइल की मारक क्षमता 600 किलोमीटर बताई जा रही है जिसे 2020 तक परीक्षण के लिए तैयार कर लिया जाएगा।

इस मिसाइल को एक बार दागने के बाद इसे वापस लाना असंभव है, क्योंकि अपने लक्ष्य के लिए निकलने के कुछ ही मिनटों में ये मिसाइल अपने टार्गेट को तहस नहस कर देगी। जिरकोन नाम के इस हायपर सोनिक मिसाइल बनाने वाले रूसी वैज्ञानिकों का दावा है कि ये मिसाइल ध्वनि की आवाज से 5 गुणा की रफ्तार से हमला करेगी। रूसी रक्षा एजेंसी के मुताबिक 2022 तक रूस इसे अपने बेडे में शामिल कर सकता है।

अबतक दुनिया की सबसे बड़ी नौसेना ताकत रखने वाले अमेरिका और ब्रिटेन भी इस खबर के बाद चिंता में हैं। रूस के इस नये मिसाइल ने डिफेंस सिस्टम के सारे आधुनिकत्तम तकनीक वाले मिसाइलों को पीछे छोड़ दिया है।

ब्रिटिश अखबार द इंडिपेंडेंट के अनुसार ब्रिटेन के रॉयल नेवी का नया एयरक्राफ़्ट करियर भी इस मिसाइल को रोकने में नाकाम साबित होगा, क्योंकि जिरकोन की स्पीड ब्रिटेन के सी केप्टर मिसाइल सिस्टम की क्षमता से अधिक है, वहीं अमेरिका को चिंता है कि रूस इस मिसाइल को परमाणु हमले करने में सक्षम किरोव वारशिप में लगा सकता है।

जिरकोन मिसाइल हायपरसोनिक स्पीड को पाने के लिए स्क्रैमजेट तकनीक पर काम करता है, मिसाइल प्रोप्लसन के लिए वायुमंडल के हवा के दबाव का इस्तेमाल करता है, विशेष रुप से बनाया गया एक सिस्टम वायुमंडल से हवा को मिसाइल के ईंधन चेंबर में धकेलता है, यहां हवा विमान के ईंधन से मिलकर शक्तिशाली ऊर्जा पैदा करता है। खास बात ये है कि इस मिसाइल को गति देने पंखे या टरबाइन का इस्तेमाल नहीं किया गया है, इसका मतलब ये है कि इसमें कम से कम तकनीकी खराबी की संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *