अपने दो जवानों की शहादत और उनके शवों के साथ बर्बरता के बाद इंडियन आर्मी के वाइस चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ शरत चंद ने आर्मी की ओर से रिएक्शन देते हुए कहा कि “पाकिस्तान को जवाब जरुर दिया जाएगा, वक्त और जगह भी हम ही तय करेंगे।”
शरत चंद ने साफ किया कि भारत के जवानों के साथ जो किया गया है वो दुश्मन की फ्रस्टेशन दिखाता है। उन्होंने तफ्सील से कुछ भी बताने से परहेज करते हुए कहा कि हमारे दो जवानों की हत्या और उनके सिर काटना पाकिस्तान आर्मी की फ्रस्टेशन दिखाता है। इसको किसी भी तरह जस्टिफाइ नहीं किया जा सकता। हम अपने एक्शन पर फोकस कर रहे हैं। वक्त और जगह भी हम ही चुनेंगे।
शरत ने आगे कहा कि पाकिस्तान आर्मी कह रही है कि- “उन्होंने जवानों के साथ बर्बरता नहीं किया। सवाल ये है कि अगर उन्होंने नहीं तो फिर किसने ये किया? उनके लोग हमारे इलाके में आए और उन्होंने ही इसे अंजाम दिया। उन्हें इसकी जिम्मेदारी लेनी होगी और नतीजे भी भुगतने होंगे।”
इसके पूर्व दोपहर में भारत के डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस लेफ्टिनेंट जनरल एके भट्ट ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष से बात कर सोमवार को जम्मू-कश्मीर में दो जवानों की हत्या और सिर काटे जाने को लेकर कहा कि यह नृशंस और अमानवीय हरकत सभ्यता के किसी भी मानक से परे है और इसके लिए पाकिस्तान जिम्मेदार हैl डीजीएमओ ने पाकिस्तानी समकक्ष से यह भी कहा कि जवानों के साथ बर्बरता के लिए पाकिस्तानी सेना ने ‘फुल फायर’ सपोर्ट दिया हैl
बीएसएफ के एडिशनल डायरेक्टर जनरल केएन चौबे ने कहा कि- “मैं इस मुद्दे पर औपचारिक तौर पर कुछ नहीं कहना चाहता, लेकिन हां, यह सच है कि पाकिस्तानी आर्मी चीफ के एलओसी का दौरा करने के बाद पाकिस्तान की बार्डर एक्शन टीम ने यह कार्रवाई की। इसके लिए पहले से प्लानिंग बनाई जाती है।” उन्होंने कहा कि- “हमारी पेटौलिंग टीम पर BAT ने घात लगाकर हमला। हैवी फायरिंग से यह पता चलता है कि इस हरकत की तैयारी पहले से की गई थी।”
रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को ही कहा था कि दो जवानों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा, भारतीय सेना इसका मुंहतोड़ जवाब देगीl यह घृणित और अमानवीय हरकत हैl शांति काल की तो बात ही छोड़ दीजिए, इस तरह के कार्य युद्ध के समय भी नहीं होते, जवानों के शव के साथ बर्बरता, वहशियाना हरकतों का चरम हैl
सोमवार सुबह पाकिस्तान ने भारत की दो बॉर्डर पोस्ट्स को निशाना बनाकर भारी हथियारों और रॉकेट लॉन्चर का इस्तेमाल किया। बीएसएफ और आर्मी की एक टुकड़ी कृष्णा घाटी के इस इलाके में यह जांचने के लिए निकली कि फायरिंग की आड़ में कहीं घुसपैठ तो नहीं हो रही। इस टुकड़ी के दो जवान प्रेम सागर और परमजीत पीछे छूट गए। पाकिस्तान आर्मी की बॉर्डर एक्शन टीम वहां घात लगाकर बैठी थी, जिसने दो जवानों की पहले हत्या की और बाद में इन शहीदों के शवों के साथ बर्बरता भी की। इसके बाद पुरे देश में पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा फैल गया, लोग पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब देने की मांग कर रहे हैं।

loading…



Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *