पूरे देश में पेट्रोल-डीजल के भाव भी 16 जून से सोने-चांदी की तरह ही रोज बदलेंगे. केंद्र सरकार पेट्रोल और डीजल पर डायनैमिक फ्यूल प्राइसिंग पॉलिसी 16 जून से लागू करने वाली है, जिसकी आधिकारिक घोषणा एक-दो दिनों में हो सकती है.
देश के पांच शहरों- जमशेदपुर, पुडुचेरी, विजाग, उदयपुर और चंडीगढ़ में एक मई से ही पेट्रोलियम मंत्रालय तथा देश की तीनों सरकारी पेट्रोलियम कंपनियां इंडियल ऑयल कॉर्पोरेशन (IOC), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HPCL) की आपसी रजामंदी के बाद यह व्यवस्था पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर चल रही है. जहाँ पेट्रोल और डीजल के दाम में हर दिन बदलाव हो रहा है. पूर्व में ही तय किया गया था कि अगर यह योजना सफल रही तो पूरे देश में इसे लागू कर दिया जायेगा.

पेट्रोलियम मंत्रालय सूत्रों के अनुसार यह प्रोजेक्ट काफी सफल रहा है इसलिए अब इसे पूरे देश में लागू करने की तैयारी है. इस व्यवस्था के लागू होने के बाद जिस तरह अभी सोना-चांदी, दलहन-तिलहन, मसाला आदि के भाव रोज के हिसाब से घटते-बढ़ते हैं उसी तरह अब पेट्रोल-डीजल के दाम भी रोजाना के हिसाब से घटते बढ़ते रहेंगे. यानी अंतरराष्ट्रीय बाजार में अगर किसी दिन कच्चे तेल की कीमतें घटती हैं तो उस दिन पेट्रोल-पंपों पर तेल सस्ता मिलेगा. कीमत बढ़ने पर उसी दिन मंहगी मिलेगी.
पेट्रोल-डीजल की कीमतों में हर दिन होने वाला बदलाव कुछ पैसों में ही होगा. तेल कंपनियों का अनुमान है कि एक रुपये से ज्यादा की बढ़त या कमी बहुत कम बार होगी. पेट्रोल के दाम रोजाना तय होने से इसका असर उन लोगों पर सबसे ज्यादा पड़ेगा, जो प्रतिदिन 100-50 रुपये का पेट्रोल लेते हैं. हालांकि जो लोग एक साथ 200 रुपये से ज्यादा का पेट्रोल लेते हैं, उन पर इसकी मार कम पड़ेगी.
डीजल का रोजाना इस्तेमाल ज्यादातर मालभाड़े की ढुलाई करने वाले वाहन जैसे की ट्रक, मिनी ट्रक,टेम्पो, ऑटो करते हैं. ऐसे में दूरदराज के क्षेत्रों से फल, सब्जी, दूध की सप्लाई पर असर पड़ सकता है. इसके अलावा निजी और सरकारी बसों के किराये पर भी असर पड़ सकता है. इससे किराया भी स्थिर नहीं.
डायनैमिक फ्यूल प्राइसिंग पॉलिसी लागू होने से कंपनियों को अपना घाटा कम करने में मदद मिलेगी, वहीं सरकार को तेल कंपनियों को घाटे की भरपाई करने के लिए बांड जारी नहीं करना पड़ेगा.

ताज़ा अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लाइक करें

loading…

Loading…





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *