कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के अमेठी में प्रेस वार्ता का वीडियो चुनाव आयोग की जांच के दायरे में आ गया है. इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी सहित अन्य नेताओं के बयानों से आचार संहिता के उल्लंघन के मामलों की जांच भी जारी है.
उत्तर प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी ने अमेठी में राहुल गांधी के प्रेस वार्ता का पूरा वीडियो आयोग को भेज दिया है. अमेठी में नामांकन दाखिल करने के बाद राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए कहा था ‘चौकीदार चोर है’. इस पर बीजेपी के प्रतिनिधिमंल ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की शिकायत चुनाव आयोग से की थी.
वरिष्ठ उप चुनाव आयुक्त उमेश सिन्हा ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और बसपा प्रमुख मायावती सहित अन्य नेताओं के चुनाव प्रचार के दौरान आचार संहिता का उल्लंघन करने संबंधी कथित बयानों की शिकायतों पर जांच जारी है. इन शिकायतों पर संबद्ध राज्यों के मुख्य चुनाव अधिकारियों (CEO) से रिपोर्ट तलब की गयी है. कुछ मामलों में CEO की रिपोर्ट मिल गयी है और कुछ में रिपोर्ट का इंतजार है.
प्रधानमंत्री द्वारा लातूर में चुनाव प्रचार के दौरान सैन्य अभियानों के पराक्रम का जिक्र किये जाने और एक अन्य जनसभा में सबरीमाला पर धार्मिक बयान देने की अलग- अलग शिकायतें मिली थीं. दोनों मामलों में CEO से प्रधानमंत्री के भाषणों की विस्तृत रिपोर्ट मांगी गयी है. लातूर में मोदी के बालाकोट सैन्य अभियान से जुड़े बयान पर जिला निर्वाचन अधिकारी की रिपोर्ट मिल गयी है. लेकिन यह रिपोर्ट पूरी नहीं थी इसलिये फिर से पूरे भाषण की रिपोर्ट मंगाई गयी है. वहीं सबरीमाला पर मोदी के बयान की रिपोर्ट मिल गयी है. इसकी जांच के बाद आयोग जल्द फैसला करेगा.
कांग्रेस द्वारा घोषित न्याय योजना के नाम पर वोट मांगने की अपील से जुड़े राहुल गांधी के ट्वीट से आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत के बारे में चुनाव आयोग के महानिदेशक धीरेन्द्र ओझा ने बताया कि उक्त ट्वीट में किसी संसदीय क्षेत्र या स्थान विशेष का उल्लेख नहीं किया गया है. इसलिये इसे आचार संहिता का उल्लंघन नहीं माना गया है.
उन्होंने कहा कि PM मोदी पर आधारित बायोपिक मामले में आयोग द्वारा गठित समिति ने फिल्म को देखा है. चुनाव के दौरान फिल्म को रिलीज करने के बारे में समिति की सिफारिश का इंतजार है. इसकी रिपोर्ट के आधार पर आयोग उच्चतम न्यायालय को इस मामले में अपनी सिफारिश से अवगत करायेगा. बायोपिक ‘पीएम नरेन्द्र मोदी’ को चुनाव के दौरान जारी करने पर रोक लगाने संबंधी याचिका उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन है.
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर आधारित एक अन्य बायोपिक का मामला सामने आने के सवाल पर सिन्हा ने कहा कि आयोग ने इस पर संज्ञान लेते हुये राज्य के CEO से रिपोर्ट मांगी है. आयोग को बसपा प्रमुख मायावती के बृहस्पतिवार के कुछ ट्वीट की भी शिकायत मिली है, जिसमें उन्होंने निर्वाचन आयोग के विरूद्ध कुछ आरोप लगाये हैं. इस शिकायत पर भी उत्तर प्रदेश के CEO से रिपोर्ट देने को कहा गया है. सपा के रामपुर से उम्मीदवार आजम खान ने आपत्तिजनक बयानों के मामले में जवाब भेज दिया है. इसकी जांच की जा रही है और जल्द ही इस पर फैसला किया जायेगा.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *