UP में किसी भी चीज की कमी नहीं है, यह बन सकता है देश का ग्रोथ इंजन : मोदी

 72 


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में ‘यूपी इन्वेस्टर्स समिट-2018’ (UPIS) की शुरुआत करते हुए कहा कि उत्तरप्रदेश पूरे देश का ग्रोथ इंजन बन सकता है। यहां संसाधनों की कमी नहीं है। पहले के और अब के हालात में फर्क है। योगी आदित्यनाथ यहां परिवर्तन ला रहे हैं। इस समिट में पहले दिन 1045 MOU साइन हुए और 4 लाख 28 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया गया है।
मोदी ने कहा कि इन्वेस्टर्स समिट में इतने लोगों का आना बहुत बड़ी बात है। मैं सीएम योगी, ब्यूरोक्रेट्स और यूपी की जनता को बधाई देता हूं कि वे इतने कम वक्त में यूपी को आगे ले जाने में सफल हुए हैं। पहले आम आदमी का जीवन मुश्किल था, निगेटिविटी, हताशा-निराशा के माहौल से पॉजिटिविटी लाने का काम यूपी सरकार ने किया है। इस काम में तेजी से कंधे से कंधा मिलाकर बढ़ने के लिए सबको बधाई देता हूं। कहावत है कि कोस-कोस पर बदले पानी। 5 कोस पर वाणी। यूपी की अपनी पहचान रही है। यहाँ मलीहाबाद के आम, बनारस की साड़ी, मुरादाबाद के पीतल के बर्तन, फिरोजाबाद की कांच की चूड़ियां, आगरे का पेठा, कन्नौज का इत्र प्रसिद्ध है। यहां शामे अवध है तो सुबहे बनारस है। यहां गंगा-यमुना है तो सरयूजी का आशीर्वाद है। आईआईटी है तो बीएचयू भी है। यूपी का गौरवशाली इतिहास ही नहीं वर्तमान भी है।
मोदी ने कहा कि इन्हीं की दम पर यूपी पूर्वी भारत का नहीं देश का ग्रोथ इंजन बन सकता है। यूपी आज गेहूं, दूध, आलू के उत्पादन में नंबर वन है। लघु उद्योंगो के मामले में देश में दूसरे नंबर पर है। तमाम विपरीत स्थितियों के बावजूद यूपी के लोगों की जितनी प्रशंसा की जाए, उतनी कम है। सवाल ये है कि अब आगे क्या होगा? क्या यूपी की क्षमता इतनी ही है? यहां वैल्यूज हैं लेकिन वैल्यू एडिशन की जरूरत है। योगी की सरकार हर चीज को ध्यान में रखकर निर्णय ले रही है।अलग-अलग सेक्टरों के हिसाब से योजना बनाकर काम किया जा रहा है।
data-ad-slot=”2847313642″

मोदी ने कहा कि अब उद्यमियों को ऑनलाइन तय सीमा में परमिशन मिल जाएगी। ये ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के क्षेत्र में एक बड़ा कदम है। योगी सरकार लोगों से किए वादे पूरे कर रही है। यूपी सरकार अब पावर ऑफ आल स्कीम से जुड़ गई है। धान की खरीद ज्यादा हुई है। यूपी की 60% जनसंख्या वर्किंग एज ग्रुप में है। अगर इसका सही इस्तेमाल हो तो यूपी नई ऊंचाई पर पहुंच जाएगा। अब यूपी में सुपरहिट परफॉर्मेंस देने के लिए योगीजी की टीम और लोग तैयार हैं। एग्जीबिशन में मैंने ऐसी तकनीकों को देखा जिसमें इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, मैन्यूफैक्चरिंग की बहुत संभावना है।
मोदी बोले कि महाराष्ट्र सरकार ने अपनी इकोनॉमी को ट्रिलियन डॉलर में बदलने का प्रस्ताव रखा है। क्या यूपी और महाराष्ट्र में इस बात का कॉम्पिटीशन हो सकता है कि दोनों में कौन पहले ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी बनेगा? यूपी की अर्थव्यवस्था में एमएसएमई का बहुत बड़ा योगदान है। इसमें ही रोजगार के सबसे ज्यादा अवसर बनते हैं। इनमें ही काम करने वाले लोगों को परिश्रम राज्य को आगे ले जा सकता है। इसी से राज्य की राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पहचान बनाए हुए है। हमने इसके लिए वन डिस्ट्रिक्ट-वन प्रोडक्ट योजना लॉन्च की है। इसके माध्यम से स्थानीय स्तर पर प्रोडक्ट की मार्केटिंग और बेहतर तरीके से हो सकती है। इस योजना को केंद्र के स्टार्टअप योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से मदद मिलेगी। यूपी को 4 लाख करोड़ लोन दे चुके हैं। बजट में 3 लाख करोड़ देने का प्रावधान किया है।
यूपी इन्वेस्टर्स समिट 2 दिनों तक चलेगी और इसमें दुनियाभर के 5 हजार उद्योगपति शामिल हो रहे हैं। योगी सरकार का दावा है कि इस समिट के जरिए प्रदेश के 20 लाख युवाओं को रोजगार मिलेगा। इस दौरान केंद्र के 19 मंत्री यहाँ भाग देंगे। इनके अलावा बिजनेस लीडर्स, निवेशक और विभिन्न क्षेत्रों से जुड़ी हस्तियां भी स्पीच देंगी।

उद्योगपति मुकेश अंबानी ने समिट में कहा कि हम सभी मिलकर उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने के सपने को पूरा करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर यूपी विकास में आगे बढ़ेगा तो कोई भी ताकत देश को आगे बढ़ने से नहीं रोक सकती है। हम डिजिटल इंडिया को आगे बढ़ा रहे हैं, जियो यूपी में अभी तक 20 हजार करोड़ रुपए का इन्वेस्ट कर चुका है। दिसंबर 2018 तक जियो यूपी के हर गांव में मौजूद होगा। अंबानी ने चार बड़े ऐलान करते हुए कहा कि जियो अगले तीन साल में 10 हजार करोड़ रुपए का निवेश करेगा। अगले दो महीनों में दो करोड़ जियो फोन यूपी को दिए जाएंगे। अगले तीन साल में 1 लाख से ज्यादा नौकरियां देंगे। गंगा हम सभी की मां है, हमारी कंपनी गंगा को साफ करने के लिए सरकार के साथ काम करना चाहती है।
उद्योगपति गौतम अडानी ने समिट में कहा कि पीएम मोदी ने इस प्रकार के कार्यक्रम की शुरुआत गुजरात में रहते हुए कि जिसके बाद देश के कई राज्यों ने इस प्रकार के कार्यक्रम किए हैं। अडानी ने कहा कि हमारा ग्रुप यूपी में वर्ल्ड क्लास फूड पार्क, लोजिस्टिक पार्क खोलेगा. उन्होंने कहा कि यूपी में हमारा लक्ष्य सोलर पावर स्टेशन खोलने का प्लान है, साथ ही मेट्रो बनाने और यूनिवर्सिटी बनाने में भी अगले 5 साल में हम यूपी में करीब 35 हजार करोड़ रुपए का निवेश करेंगे।
महिंद्रा ग्रुप के आनंद महिंद्रा ने कार्यक्रम कहा कि मेरी माता जी इसी प्रदेश की हैं, यूपी को सिर्फ अन्य राज्यों से ही नहीं बल्कि दूसरे देशों से तुलना की जानी चाहिए। अगर जनसंख्या के आधार पर यूपी की तुलना किसी राज्य से नहीं की जाती है तो इसके लक्ष्य भी अलग तरीके से तय होने चाहिए। हम वाराणसी में भी कई तरह के निवेश करेंगे, वाराणसी में रिजॉर्ट बनाएंगे। आदित्य बिड़ला ग्रुप के कुमार मंगलम बिड़ला ने यूपी में 25000 करोड़ रुपए के निवेश का वादा किया।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी इस समिट की तैयारियों को लेकर निजी तौर पर दिलचस्पी ले रहे हैं ताकि राज्य में बड़ी संख्या में निवेश आ सके। 2 दिनों के समिट में होने वाले 14 सत्रों में यूपी में होने वाले निवेश पर चर्चा होगी। इस शानदार आयोजन के लिए राजधानी लखनऊ को दुल्हन की तरह सजाया गया है। पूरे शहर के चप्पे-चप्पे पर इन्वेस्टर्स समिट की तैयारियां हैं। बड़े-बड़े होर्डिंग्स और बैनर लगे हुए हैं। एयरपोर्ट से लेकर इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान तक तकरीबन 25 किलोमीटर के रास्ते को बेहतरीन तरीके से सजाया गया है। साफ-सफाई का खास इंतजाम किया जा गया है। मायावती के बनाए तमाम पार्क को फिर से रंग-रोगन किया गया और नए तरीके से सजाया गया है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें


loading...


Loading...