UP बीजेपी अध्यक्ष ने राममंदिर पर किया बड़ा इशारा, ‘योगी ने बनाई है ये योजना, दीवाली आने दीजिए’

 72 


राम मंदिर निर्माण को लेकर आ रहे बयानों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. एक ओर आरएसएस लगातार केंद्र सरकार से राम मंदिर निर्माण पर अध्यादेश लाने की मांग कर रहा है. वहीं, अब इस कड़ी में उत्तर प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष महेंद्र नाथ पाण्डेय का भी नाम जुड़ गया है. राम मंदिर को लेकर चर्चा करते हुए महेंद्र नाथ ने शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ का नाम लेते हुए जल्द ही लिए जाने वाले किसी बड़े फैसले की ओर इशारा किया है.
महेंद्र नाथ पाण्डेय ने कहा कि योगी आदित्यनाथ प्रदेश के मुख्यमंत्री होने के साथ-साथ बहुत बड़े संत भी हैं. निश्चित रूप से उन्होंने अयोध्या के लिए योजना बनाई है. दिवाली आने दीजिए और खुशखबरी की प्रतीक्षा कीजिए. पाण्डेय ने कहा कि अगर यह योजना मुख्यमंत्री के हाथों सामने आएगी तो, अच्छा होगा. बता दें कि शुक्रवार को ही बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और संघ के सर कार्यवाहक भैय्याजी जोशी के बीच राम मंदिर को लेकर मुलाकात हुई थी.
इस मुलाकात के बाद सर कार्यवाहक भैय्याजी जोशी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि शाह और संघ के नेताओं के बीच कार्यों की समीक्षा की गई है. उन्होंने कहा कि पिछले 6 सालों में देशभर में संघ के कार्यों में तेजी आई है. पिछले साल के मुकाबले इस साल संघ की शाखाओं में 2200 की बढ़ोतरी हुई है. उन्होंने बताया कि एक साल में देश के अलग-अलग हिस्सों में संघ के कार्यक्रमों में एक लाख सेवकों की संख्या में इजाफा हुआ है.
प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए भैय्याजी ने कहा कि भगवान राम हर जगह हैं, कोई इस बात को माने या फिर न माने. राम मंदिर निर्माण के मुद्दे पर बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण मामले में कोर्ट को हिंदू पक्ष की भावनाओं को समझना चाहिए.
सुप्रीम कोर्ट द्वारा मामले की सुनवाई टालने के सवाल का जवाब देते हुए कहा किए उन्हें उम्मीद थी कि दिवाली तक इस पर फैसला आ जाएगा. 2018 की दिवाली से राम मंदिर निर्माण का कार्य शुरू हो जाएगा.
केंद्र सरकार द्वारा राम मंदिर निर्माण मामले में अध्यायदेश लाए जाने पर भैय्याजी ने कहा कि यह सरकार का अधिकार है. अगर वह चाहे तो अयोध्या राम मंदिर निर्माण पर अध्यादेश लाकर लोगों की वर्षों की इच्छा को पूरा कर सकती है.

loading…


Loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *