UN में ‘टेररिस्तान’ को चीन ने पहली बार मारी लात

 98 


चीन ने कश्मीर मसले पर पाकिस्तान को जमकर लताड़ते हुए संयुक्त राष्ट्र मंच पर दो टूक कहा कि कश्मीर विवाद भारत और पाकिस्तान के बीच का मामला है. लिहाजा पाकिस्तान इस मामले पर भारत से खुद निपटे. वैश्विक मंच पर चीन के इस बयान को पाकिस्तान की कश्मीर मुद्दे के अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिश को बड़ा झटका माना जा रहा है.
पाकिस्तान लंबे समय से कश्मीर विवाद के अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिश करता आ रहा है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से लेकर सेना प्रमुख तक सभी ने कश्मीर मामले को अंतरराष्ट्रीय मंच पर उछालने की सारी कोशिश की, लेकिन हर बार उसको मुंह की खानी पड़ी.
संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने कश्मीर मुद्दे को उठाया. उन्होंने कश्मीर मसले के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा से विशेष दूत नियुक्त करने की भी मांग की. इतना ही नहीं, पाकिस्तान ने कश्मीर मामले को संयुक्त राष्ट्र महासभा में उठाने के लिए ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉरपोरेशन (OIC) का इस्तेमाल करने की भी कोशिश की.


आतंकवाद समेत सभी मुद्दों पर हमेशा पाकिस्तान का साथ देने वाले चीन ने भी अब कश्मीर मसले को लेकर उसका साथ छोड़ दिया है. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के बयान के दूसरे ही दिन चीन के विदेश मंत्री लु कांग ने पाकिस्तान को वैश्विक मंच पर लताड़ा. शुक्रवार को चीन ने साफ कर दिया कि वह कश्मीर मामले पर पाकिस्तान की किसी भी तरह की मदद नहीं करेगा. चीन पहले भी यह बात कहता रहा है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय मंच पर उसने पहली बार ऐसे खुलकर पाकिस्तान को लताड़ लगाई है.
इससे पहले संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के झूठ पर भारत ने पलटवार करते हुए कहा कि पाकिस्तान आतंकियों का गढ़ है और दुनिया को मानवाधिकार पर पाकिस्तान से ज्ञान की कोई जरूरत नहीं है. पाकिस्तान अपनी ही जमीन पर मानवाधिकारों का उल्लंघन करता रहा है. भारत ने स्पष्ट कहा कि पाकिस्तान को यह समझ लेना चाहिए जम्मू कश्मीर हमारा अभिन्न हिस्सा है.
UN में भारत की प्रथम सचिव ईनम गंभीर ने पाकिस्तान को ‘टेररिस्तान’ करार देते हुए कहा कि वह लगातार आतंकियों को पनाह देता रहा है. यह देश आज पूरी तरह आतंक को पैदा कर रहा है. यह असाधारण है कि एक स्टेट जो ओसामा बिन लादेन और मुल्ला उमर को पनाह देता है, पीड़ित होने का दिखावा कर रहा है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *