भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने 19 जनवरी से 7 फरवरी के बीच साउथ अफ्रीका में अंडर-19 वर्ल्ड कप 2020 के लिए प्रियम गर्ग को कमान सौंपते हुए टीम की घोषणा कर दी. दायें हाथ के शीर्ष क्रम के बल्लेबाज गर्ग ने भारतीय युवा टीम को कई उपलब्धियां दिलाई हैं. इनके नाम प्रथम श्रेणी क्रिकेट में दोहरा शतक दर्ज है.
पांचवीं बार अंडर 19 विश्व कप का खिताब अपने नाम करने के लिए अंडर 19 टीम की घोषणा रविवार को ही होनी थी परन्तु सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी फाइनल के कारण इसे कल स्थगित कर दिया गया था. हालांकि BCCI की जूनियर सलेक्शन कमेटी ने रविवार की रात में ही नाम फाइनल कर दिए थे. नेशनल क्रिकेट एकेडमी (NCA) चीफ राहुल द्रविड़ भी मुंबई पहुंचे हुए थे. राहुल द्रविड़ ने अंडर 19 टीम का कोच रहते हुए टीम के सभी युवा खिलाड़ियों की प्रतिभा को अच्छी तरह परखा है और उन्हें पता है कि किस खिलाड़ी में क्या क्षमता है.
अंडर-19 विश्व कप में 16 टीमें हिस्सा ले रही हैं, जिन्हें चार ग्रुपों में बांटा गया है. हर ग्रुप की शीर्ष दो टीमें सुपर लीग स्टेज के लिए क्वालीफाई करेंगी. भारतीय टीम ग्रुप-ए में न्यूजीलैंड, श्रीलंका और जापान के साथ है. भारत 19 जनवरी को श्रीलंका से, 21 जनवरी को जापान से, 24 जनवरी को न्यूजीलैंड से खेलेगा. पहला क्वार्टर फाइनल 28 जनवरी, दूसरा क्वार्टर फाइनल 29 जनवरी, तीसरा क्वार्टर फाइनल 30 जनवरी, चौथा क्वार्टर फाइनल 31 जनवरी को और पहला सेमीफाइनल 4 फरवरी, दूसरा सेमीफाइनल 6 फरवरी को तथा 9 फरवरी को फाइनल खेला जाना है.
अंडर-19 वर्ल्ड कप के लिए चुनी गयी टीम- प्रियम गर्ग (कप्तान), ध्रुव चंद जुरेल (उपकप्तान सह विकेटकीपर), यशस्वी जयसवाल, तिलक वर्मा, दिव्यांश सक्सेना, शाश्वत रावत, दिव्यांश जोशी, शुभांग हेगडे, रवि बिश्वनोई, आकाश सिंह, कार्तिक त्यागी, अथर्व अंकोलकर, कुमार कुशाग्र(विकेटकीपर), सुशांत मिश्रा और विद्याधर पाटिल.
30 नवंबर को प्रियम गर्ग अपने जन्मदिन पर UP रणजी टीम का कप्तान नियुक्त किया गया. दुसरे दिन विश्व कप के लिए उन्हें कप्तान नियुक्त करते हुए सोमवार को नाम की आधिकारिक घोषणा की गयी. प्रियम गर्ग ने अपने पहले रणजी में खेलते हुए एक दोहरा शतक, दो शतक और पांच अर्धशतक सहित कुल 867 रन बनाए थे.
प्रियम के पिता नरेश गर्ग दूध बेचकर और स्कूल का वाहन चलाया करते थे (वर्तमान में स्वास्थ विभाग के वाहन चालक हैं). आठ वर्ष की उम्र से क्रिकेट खेलने वाले प्रियम किला परीक्षितगढ़ से बस की छत पर बैठकर क्रिकेट की प्रैक्टिस करने 20 किलोमीटर दूर संजय रस्तोगी की क्रिकेट एकेडमी जाते थे. प्रियम की उम्र जब मात्र 11 साल थी उसके मां कुसुम देवी की 2011 में मृत्यु हो गई. प्रियम ने कई बार यह दुरी साइकिल से तय की. बेटे को अंडर-19 की कप्तानी मिलने पर नरेश गर्ग ने कहा कि यह अच्छी बात है, मैं काफी खुश हूँ. अंडर-19 वर्ल्ड कप का खिताब लेकर आये तो सीना चौड़ा हो जाएगा.



loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *