प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को आर्थिक उन्नति, निवेश और रोजगार निर्माण के लिए दो नई कैबिनेट समितियों का गठन किया, दोनों के चेयरमैन मोदी स्वयं होंगे.
निवेश और उन्नति को लेकर गठित की गई समिति में प्रधानमंत्री के साथ गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी और रेल मंत्री पीयूष गोयल को रखा गया है.
रोजगार और कौशल विकास पर केंदित एक दूसरी समिति में कुल दस सदस्य हैं. इसमें PM, शाह, सीतारमण और गोयल के अलावा कृषि कल्याण और ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’,पेट्रोलियम और नैचुरल गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, कौशल-उद्यमिता मंत्री महेंद्र नाथ पांडेय और संतोष कुमार गंगवार तथा हरदीप सिंह पुरी शामिल हैं।
ज्ञात है कि बीते वित्त वर्ष 2018-19 की चौथी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 5.8% रही है, जिसका असर पूरे वित्त वर्ष की विकास दर पर पड़ा. वर्ष 2018-19 में विकास दर 6.8% रही है जो 5 साल में सबसे कम है. इस वर्ष के लक्ष्य 7.2% का था. अब मोदी सरकार के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण अर्थव्यवस्था को सुधारना है।
उधर श्रम मंत्रालय ने भी मंत्रिमंडल गठन के दूसरे ही दिन बेरोजगारी के आंकड़े जारी किए थे. जिसके अनुसार देश में 2017-18 में बेरोजगारी दर 6.1% रही, जो 45 साल में सबसे ज्यादा है. इससे पहले 1972-73 में बेरोजगारी दर का आंकड़ा इतना ही था.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *