कैमूर जिला में 14 वर्षीया छात्रा के साथ हुए सामूहिक बलात्कार और दुराचारियों द्वारा स्वयं उसका वीडियो वायरल करने के मामले में फिलहाल शासन- प्रषासन एवं राजनीतिज्ञों ने शांति कायम करने में अवश्य सफलता प्राप्त कर ली है. पर इससे जो आक्रोश पूरे जिले और अगल- बगल के जिलों रोहतास व बक्सर में आज भी व्याप्त है वो क्या रूप- स्वरूप लेती है अभी भविष्य के गर्भ में है.
नौंवीं कक्षा की एक छात्रा के साथ कैमूर जिला मुख्यालय भभुआ- मोहनिया पथ पर स्थित एक बंद पड़े जीर्ण- शीर्ण डायवर्सन पर 4 युवकों द्वारा सामूहिक बलात्कार किये जाने और उसका वीडियो बनाकर वायरल करने के मामले ने यहाँ दो समुदायों के बीच काफी तूल पकड़ लिया. हाँलाकि पुलिस ने घटना में शामिल सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है तथा मामले में इस्तेमाल की गयी वाहन स्विफ्ट डिजायर को भी रोहतास के डेहरी से बरामद कर लिया है.
नाबालिग छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म एवं वीडियो वायरल मामले ने मोहनिया में तूल पकड़ लिया. आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने की मांग के साथ बड़ी संख्या में छात्र- युवा प्रदर्शन करने लगे. सड़क पर उतरी आक्रोशित भीड़ तोड़फोड़ और आगजनी करने लगी, सड़क पर खड़ी कई बाइकों में आग लगा दी गयी. अनियंत्रित भीड़ देख नगरवासी सहम गए, धड़ाधड दुकानें बंद होने लगीं. कुछ ही देर में नगर की सारी सड़कें सूनी हो गयीं, बस स्टैंड में भी सन्नाटा छा गया. कैमूर के जिलाधिकारी डा.नवल किशोर चौधरी स्वयं पूरे प्रसाशनिक अमला के साथ मोहनिया की सडकों पर पहुंच गये. शाम होते- होते शाहाबाद के DIG राकेश राठी ने मोहनियां में कैम्प कर दिया. विधि व्यवस्था दुरुस्त रखने के लिए चप्पे-चप्पे पर वज्र वाहन के साथ पुलिस तैनात कर दी गयी. ध्वनि विस्तारक यंत्र से शांति बनाये रखने और कानून को हाथ में नहीं लेने की चेतावनी दी जाने लगी.
बुधवार को चौथा आरोपी सिकंदर भी गिरफ्तार हो गया, अरबाज (उर्फ़ दरोगा, अयान एवं पल्लू), शहनवाज एवं सोनू उर्फ कलामू पूर्व में ही गिरफ्तार किए जा चुके थे. TI परेड में पीड़िता ने आरोपियों की पहचान भी कर दी. पास्को एक्ट के तहत दर्ज FIR के बाद पीड़िता का बयान भी 164 में करा दिया गया. SFL पटना की टीम कुछ नमूनों को फॉरेंसिंक टेस्ट के लिए ले गयी. आरोपितों के विरुद्ध अविलम्ब आरोप पत्र समर्पित कर स्पीडी ट्रायल द्वारा कठोरतम दंड दिलाने में पूरा प्रशासनिक महकमा लग गया.
गुरुवार को मोहनियां में गैंगरेप के दोषियों को फांसी देने की मांग के समर्थन में एक संगठन के लोग चांदनी चौक पर मीटिंग करने के बाद जुलूस भभुआ रोड की ओर चला. कुछ युवक आरोपियों के मोहल्ले में जाने लगे, पुलिस रोकने का प्रयास कर ही रही थी कि दूसरी ओर से पेट्रोल बम फेंकते हुए फायरिंग शुरू कर दी गयी. जिसमें कुर्रा गांव के भरत माली व बहादुरा गांव के बदलाउ पांडेय को गोली लग गई. जिन्हें निजी अस्पताल में भेजा गया. इसके बाद हुए पथराव एवं लाठी चार्ज में चार पुलिसकर्मी समेत कई लोग घायल हो गये.
उपद्रव के बाद पूरा शहर पुलिस छावनी में तब्दील हो गया. निषेधाज्ञा लागू कर पुलिस गश्त तेज कर दी गई. कमजोर वर्ग के IG कमल किशोर सिंह व STF के DIG विनय कुमार के साथ ही रोहतास के SP सत्यवीर सिंह मोहनिया में कैंप कर विधि व्यवस्था पर नजर रखे रहे. जिले में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई. नगर में रातभर संघन छापेमारी अभियान चलाकर वीडियो फुटेज के आधार पर उपद्रवियों को गिरफ्तार किया गया. उपद्रव के बाद 22 नामजद व 200 अज्ञात लोगों के विरुद्ध मोहनिया थाना में FIR दर्ज कराई गई. मोहनिया की स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *