बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने इस वर्ष कैंपेन अवॉर्ड पुरस्कार भारत के एमएएसएच प्रोजेक्ट फाउंडेशन को तथा ग्लोबल गोलकीपर अवार्ड 2020 अफ्रीका सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन (अफ्रीका सीडीसी) के निदेशक डॉ. जॉन एन. केनगासॉन्ग को देने की घोषणा की गई है।
बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने इसके साथ ही सालाना गोलकीपर कैंपेन के तहत तीन और गोलकीपर अवार्ड्स तथा दो पार्टनरशिप लॉन्च करने की भी घोषणा की।
बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के सह- अध्यक्ष बिल गेट्स ने कहा कि डॉ. केनगासॉन्ग और अफ्रीका सीडीसी की उनकी टीम इस पुरस्कार की असली हकदार है। उन्होंने कहा कि दुनिया में कहीं से भी नवीनतम नवाचारों को हासिल करने के लिए उनकी प्रतिबद्धता कोविड-19 से लड़ने के लिए महाद्वीप में वैक्सीन और दवाएं लाने की दिशा में एक लंबा रास्ता तय करेगा।
कोविड-19 की वजह से केन्या की स्वास्थ्य व्यवस्था और अर्थव्यवस्था को हुए नुकसान की भरपाई हो पाएगी।
भारत के एमएएसएच प्रोजेक्ट फाउंडेशन तथा डॉ. केनगासॉन्ग के अलावा इस साल यह अवॉर्ड नाइजीरिया के हाउवा ओजिफो, और नेपाल के बोनिता शर्मा को मिला। हर किसी को यह पुरस्कार उनके समुदाय में कोविड-19 की समस्या के समाधान के लिए दिया गया है।
“ग्लोबल गोलकीपर अवार्ड” पुरस्कार स्वास्थ्य एवं विकास के प्रति उल्लेखनीय रूप से प्रतिबद्धता जताने को लेकर दिया जाता है, विशेषकर महामारी की स्थिति में। इस वर्ष यह अवॉर्ड डॉ. केनगासॉन्ग को दिया जा रहा है, जो अफ्रीका के दिग्गज वैज्ञानिक हैं। कोविड-19 वैक्सिन क्लीनिकल ट्रायल्स के लिए अफ्रीका सीडीसी कंसोर्टियम के सह- अध्यक्ष के रूप में डॉ. केनगासॉन्ग ग्लोबल वैक्सिन डेवलपर्स, फंडर्स और लोकल फैसिलिटेटर्स को एक साथ लाकर विभिन्न तरह के लेट- स्टेड वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल्स का नेतृत्व कर महाद्वीप को सुरक्षित करने में काम में लगे हैं। यह काम अफ्रीकी आबादी के लिए सबसे होनहार वैक्सीन उम्मीदवारों की पहचान करना और इस काम को बढ़ावा देने को सुनिश्चित करने की दिशा में महत्वपूर्ण साबित होगा।
कैंपेन अवॉर्ड पुरस्कार ऐसे अभियान के लिए दिया जाता है, जिसने जागरुकता बढ़ाई हो या प्रेरणादायक कार्रवाई और परिवर्तन करके समुदाय का निर्माण किया हो। वैश्विक सहयोग और साझेदारी को बढ़ावा देने को लेकर इस साल यह अवॉर्ड एमएएसएच प्रोजेक्ट फाउंडेशन को देने की घोषणा की गई है। एमएएसएच प्रोजेक्ट फाउंडेशन भारत का एक सामाजिक उद्यम है, जो सरकार, नागरिक समाज, कॉर्पोरेट सेक्टर, युवा और मीडिया के बीच खाई को पाटकर सामाजिक परिवर्तन करने वालों के वैश्विक समाज का निर्माण कर रहा है, ताकि समाज को आगे बढ़ाया जा सके।
चेंजमेकर अवॉर्ड पुरस्कार उन्हें दिया जाता है, जिन्होंने व्यक्तिगत अनुभव या नेतृत्व के ओहदे के जरिए बदलाव के लिए प्रेरित किया है। इस साल यह अवॉर्ड लैंगिक समानता के काम को बढ़ावा देने के लिए नाइजीरिया की हाउवा ओजेइफो को मिला है। ओजेइफो के साथ अतीत में यौन और घरेलू उत्पीड़न हो चुका है और वह शी राईट्स वूमेन की संस्थापिका हैं, जो महिलाओं के नेतृत्व वाला एक अभियान है और नाइजीरिया में यह मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे के प्रति आवाज बुलंद कर रहा है।

प्रोग्रेस अवॉर्ड पुरस्कार साइंस, टेक्नोलॉजी, डिजिटल या बिजनस इनिशिएटिव के जरिए विकास का समर्थन करने के लिए दिया जाता है। इस वर्ष यह अवॉर्ड नेपाल की बोनिता शर्मा को अच्छे स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा देने को लेकर किए गए काम के लिए मिला है। शर्मा सोशल चेंजमेकर्स एंड इनोवेटर्स की सह-संस्थापक और सीईओ हैं, जो युवाओं के नेतृत्व वाला एक गैर- लाभकारी संगठन है। यह संगठन अपने शिशुओं का पालन- पोषण करने वाली माताओं और बच्चों के पोषण स्वास्थ्य के लिए काम करता है, साथ ही यह कारोबारी अवसरों के जरिए आर्थिक रूप से पिछड़ी महिलाओं को सशक्त करने का भी काम करता है।
इस अवसर पर बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की सह-अध्यक्ष मेलिंडा गेट्स ने कहा कि यह महामारी और असमानताओं पर प्रकाश डालता है, जो निस्संदेह इस युग को परिभाषित करेगा और दुनिया मानवता के सबसे अच्छे रूप को देख रहा है। उन्होंने कहा कि हम पुरस्कार जीतने वाले उन लोगों की ऊर्जा और उनके काम से प्रेरित हैं, जो दुनिया को पहले से अधिक सुरक्षित, स्वस्थ और समानतायुक्त बनाने में लगे हुए हैं।
गोलकीपर्स ग्लोबल गोल्स अवॉर्ड्स और एक्सीलीरेटर्स की घोषणा पिछले सप्ताह बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन द्वारा जारी सालाना गोलकीपर्स रिपोर्ट के बाद सामने आयी। इस साल के रिपोर्ट में यह दिखाया गया है कि कोविड-19 द्वारा अर्थव्यवस्था को हुए नुकसान ने किस तरह असमानता को बढ़ावा दिया है और वैश्विक लक्ष्यों को हासिल करने की राह में बाधा बना है। हालांकि रिपोर्ट में उन देशों की प्रशंसा की गई है, जो चुनौतियों से निपटने के लिए नवाचार का सहारा ले रहे हैं और साझा वैश्विक प्रतिक्रिया की राह को भी रेखांकित किया है।
बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन हर ज़िंदगी एक समान कीमती है की धारणा में यकीन रखते हुए सभी लोगों को स्वस्थ्य और उत्पादक जीवन जीने में मदद करने का प्रयसा करता है। विकासशील देशों में फाउंडेशन लोगों के स्वास्थ्य सुधार पर ध्यान देकर उन्हें भुखमरी और अतिगरीबी की स्थिति से ऊपर उठने का मौका देता है। संस्था अपने काम के ज़रिए इस बात को सुनिश्चित करती है कि कम संसाधन वाले लोगों को भी ऐसे मौके मिलें जिससे वो स्कूल और जीवन में सफल बन सकें।
गोलकीपर, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन का सतत विकास लक्ष्यों (वैश्विक लक्ष्यों) की दिशा में विकास को बढ़ावा देने का अभियान है। गोलकीपर प्रगति के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देता है, अपने नेताओं को जवाबदेह बनाता है और वैश्विक लक्ष्यों को हासिल करने के लिए काम करता है।
न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र के मुख्यालय में 25 सितंबर, 2015 को दुनियाभर के नेताओं ने 17 स्थाई विकास लक्ष्यों (वैश्विक लक्ष्य) को लेकर अपनी प्रतिबद्धता जताई थी। यह महत्वाकांक्षी उद्देश्यों की एक श्रृंखला है, जिसे 2030 तक हासिल किया जाना है। साथ ही गरीबी को खत्म करना, असमानता और अन्याय से लड़ाई लड़ना और जलवायु से जुड़ी समस्याओं का समाधान करना है। प्रोजेक्ट एवरीवन, गोलकीपर को तैयार करने में लेखक, निदेशक और एसडीजी एडवोकेट रिचर्ड कुर्टिस ने बड़ी भूमिका निभाई है। इसका उद्देश्य जागरूकता बढ़ाकर, नेताओं को जवाबदेह बनाकर और इसके लिए काम करके वैश्विक लक्ष्यों को हासिल करना है।



loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *