राम जन्म भूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. रामविलास वेदांती ने तीखे तेवर दिखाते हुए दो टूक कहा कि इसे धमकी समझें या सुझाव, विश्व की कोई ताकत राम जन्म भूमि पर मस्जिद नहीं बनवा सकती.
राम जन्म भूमि को लेकर चल रही सुलह-समझौते की कवायद के बीच शुक्रवार को लखनऊ पहुंचे पूर्व सांसद वेदांती ने कहा कि राम जन्म भूमि पर हुई खोदाई में 12 भगवानों की मूर्तियां निकलीं. अयोध्या में मंदिर तोड़कर मस्जिद के गुम्बद बनाए गए थे. खुदाई में वंहा मस्जिद संबंधी कोई प्रमाण नहीं मिला. पाकिस्तान और मलेशिया में जिस तरह काफी पहले तोड़े गए मंदिरों के स्थान पर मंदिर बनवाए गए, वैसे ही भारत में क्यों नहीं हो सकता?
डॉ. वेदांती ने कहा कि कुछ कट्टरपंथी मुसलमानों को छोड़कर सभी मुसलमान भी चाहते हैं कि राम जन्मभूमि पर रामलला का मंदिर बने. शिया वक्फ बोर्ड पहले ही इच्छा जता चुका है कि अयोध्या में मंदिर और लखनऊ के शिया बहुल इलाके में मस्जिद बनवा दी जाए. हां, यह बाबर के नाम पर न हो.
डॉ. वेदांती ने दोहराया कि शिया वक्फ बोर्ड के लोग आरोप लगा चुके हैं कि सुन्नी वक्फ बोर्ड के लोग आतंकियों से मिले हुए हैं. उन्होंने कहा कि बाबर कभी अयोध्या नहीं आया. वह सबसे पहले हरियाणा के बाबरपुर पहुंचा था, इसलिए मस्जिद वहीं बनवाई जाए. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पाकिस्तान नहीं चाहता कि हमारे देश में शांति रहे.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *