POK में एक बार फिर जनता पाकिस्तान के खिलाफ खड़ी हो गई है। पीओके के रावलकोट, मुज्जफराबाद, कोटली व अन्य कई इलाकों में PoK के नेता बाबा जान को जेल से रिहा करने के लिए प्रदर्शन किया गया।
बाबा जान लगातार पीओके में पाकिस्तान के दुराचार के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं, जिसके कारण उन्हें 14 साल की सजा सुनाई गई है। प्रदर्शन के दौरान लगातार पाकिस्तान के खिलाफ नारेबाजी की गई और बाबा जान को छोड़ने की मांग की गई। बाबा जान POK के गिलगिट के नेता हैं। करीब दो साल पहले बाबा जान और उनके कई समर्थकों को जेल भेज दिया गया था, बाद में पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट ने उन्हें 14 साल की सजा सुनाई थी।

POK में लंबे समय से विरोध की आवाजें उठती रही हैं। इसके अलावा सिंध प्रांत में भी पाकिस्तान के खिलाफ स्थानीय लोग अपनी आवाज बुलंद करते रहे हैं। वहीं पाकिस्तान इन आवाजों को दबाने की भरसक कोशिश करता रहा है। पाकिस्तान आर्मी स्थानीय लोगों पर जुल्म ढाती रही है। हाल के दिनों चीन-पाक आर्थिक गलियारे को लेकर भी लोगों में आक्रोश का माहौल है।
दूसरी ओर भारत हमेशा से यह कहता रहा है कि पीओके और गिलगित-बाल्टिस्तान पर पाकिस्तान का कब्जा अवैध है और उसे खाली करना होगा। भारत का कहना है कि अगर भारत और पाकिस्तान के बीच जम्मू और कश्मीर को लेकर कोई विवाद है तो वह है सिर्फ पाकिस्तान की तरफ से पीओके और गिलगित-बाल्टिस्तान पर अवैध कब्जा।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लाइक करें

loading…

Loading…





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *