Patna Metro: NIT की संशोधित डीपीआर को मिली मंजूरी, केंद्र सरकार को जून में सौंपा जाएगा प्रस्ताव

 108 

पटना मेट्रो के संशोधित डीपीआर का प्रजेंटेशन मंगलवार (16 मई) को नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश कुमार शर्मा के कार्यालय में दिया गया. एनआईटी के डीन संजीव कुमार सिन्हा ने नये डीपीआर की जानकारी दी. इससे पहले भी मेट्रो डीपीआर का दिया गया था, जिसमें कुछ आपत्ती जतायी गई थी. नये डीपीआर पर मंत्री ने सहमति जतायी और जून में संशोधित डीपीआर को केंद्र सरकार को देने का फैसला किया गया है.
बताया जाता है कि एनआईटी ने जो डीपीआर तैयार किया है उसमें साल 2030 की आबादी को ध्यान में रखते हुए सीएमपी तैयार किया गया है. इसके लिए शहर का सर्वे किया गया. यह सर्वे शहर के चार नगर निकायों पटना नगर निगम, फुलवारीशरीफ, खगौल और दानापुर को मिला कर किया गया.
सर्वे में अन्य परिवहनों का भी ध्यान रखा गया है. आबादी के अनुसार भविष्य में मेट्रो को सबसे आसान परिवहन साधन बताया गया है. केंद्र सरकार को डीपीआर सौंपने के बाद इसके वित्तीय प्रावधानों पर विचार किया जाएगा. पहले चरण में मेट्रो का निर्माण पटना जंक्शन से लेकर बैरिया तक किया जाएगा. इस रूट पर चलने वाली मेट्रो मेट्रो अशोक राजपथ, गांधी मैदान, राजेंद्रनगर टर्मिनल होते हुए बैरिया तक जाएगी. बैरिया में जल्द ही अंतरराज्यीय बस स्टैंड भी बनने वाला है.
वही, दुसरे चरण में इसका निर्माण सगुना मोड़ से मीठापुर तक किया जायेगा. पहले चरण में जो मार्ग प्रस्तावित किया गया है उसमें कॉरिडोर को तीन हिस्सों में बांटा गया है. इसमें पहला कॉरिडोर पटना जंक्शन से बैरिया में प्रस्तावित अंतरराज्यीय बस अड्डा तक होगा. दूसरा कॉरिडोर मीठापुर बाइपास से दीदारगंज और तीसरा कॉरिडोर मीठापुर बाइपास से एम्स तक होगा. इस कॉरिडोर की कुल लंबाई 14.02 किलोमीटर होगी. इसमें से 9.625 किलोमीटर एलिवेटेड होंगे, जिसपर नौ स्टेशन होंगे. भूमिगत कॉरिडोर की लंबाई 4.575 किलोमीटर होगी. जहां तीन स्टेशन होंगे.

loading…


Loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *