भारत द्वारा अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मोहम्मद क़ुरैशी ने बयान दिया . उन्होंने कहा कि इसके असर पूर इलाक़े पर बहुत भयानक हो सकते हैं.
भारत ने बहुत ख़तरनाक खेल खेला है. इमरान ख़ान पूरे मसले को समाधान की तरफ़ ले जाना चाहते थे लेकिन भारत ने अपने फ़ैसले से मामले को और जटिल बना दिया है. कश्मीरियों को पहले से ज़्यादा क़ैद कर दिया गया है. हमने इस मामले में संयुक्त राष्ट्र को सूचित कर दिया था. हमने इस्लामिक देशों को भी सूचित कर दिया है. सभी मुसलमान मिलकर कश्मीरियों की सलामती की दुआ करें. पाकिस्तानी कौम पूरी तरह से कश्मीरियों के साथ है.”
महबूबा मुफ़्ती ने बताया भारतीय लोकतंत्र का सबसे काला दिन
JK की पूर्व मुख्यमंत्री और PDP प्रमुख महबूबा मुफ़्ती ने इसे भारतीय लोकतंत्र का सबसे काला दिन क़रार दिया. उन्होंने ट्वीट किया- “भारत सरकार का अनुच्छेद 370 को हटाने का फ़ैसला ग़ैर-क़ानूनी और असंवैधानिक है. इससे जम्मू-कश्मीर में भारत की मौजूदगी एक क़ब्ज़ा करने वाली सेना की हो गई है. 1947 में विभाजन के समय जम्मू-कश्मीर के नेतृत्व ने टू-नेशन सिद्धान्त को ख़ारिज करते हुए भारत सरकार के साथ जाने का जो फ़ैसला किया था आज उसका उलटा असर हुआ है”.
उमर अब्दुल्ला ने बताया विश्वासघात
JK के पूर्व मुख्यमंत्री NC के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा कि ”भारत सरकार ने अनुच्छेद 370 को ख़त्म जम्मू-कश्मीर की जनता के साथ विश्वासघात किया है जबकि स्वायतत्ता के आधार पर ही जम्मू-कश्मीर भारत के साथ आया था. इस फ़ैसले के बहुत ख़तरनाक नतीजे होंगे.”
ग़ुलाम नबी आज़ाद ने बताया असंवैधानिक
JK के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि इस ऐतिहासिक आर्टिकल के माध्यम से जम्मू कश्मीर को देश से जोड़ा गया था. इसे हटाना असंवैधानिक है, हम इसका विरोध करते हैं. मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर का टुकड़े-टुकड़े कर दिया है. उन्होंने कहा कि सेक्युलर सोच के लोग कश्मीरियों के लिए हमेशा लड़ते रहेंगे.
UN ने नियंत्रण रेखा पर अधिकतम संयम की सलाह दी
उधर भारत- पाकिस्‍तान के बीच उत्पन्न तनाव संयुक्‍त राष्‍ट्र पहुंच गयी है. संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भारत और पाकिस्‍तान से कश्‍मीर में संयम बरतने की अपील की है, खासकर भारत-पाक से नियंत्रण रेखा पर अधिकतम संयम बरतने की सलाह दी. संयुक्‍त राष्‍ट्र महासचिव के प्रवक्‍ता स्‍टीफन दुजारिक ने अपने एक बयान में कहा कि ‘UN के सैन्‍य पर्यवेक्षक समूह की रिपोर्ट में यह कहा गया है कि नियंत्रण रेखा पर दोनों देशों की सैन्‍य गतिविधि में वृद्धि हुई है.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *