PAK अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद का चेहरा और PoK इसका केंद्र : भारत

 75 


भारत ने राइट ऑफ रिप्लाई के तहत सोमवार को यूनाइटेड नेशंस में कहा कि पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद का चेहरा है और POK आतंकवाद का केंद्र बन गया है।
भारत ने कहा कि घरेलू असंतोष के मुखौटे के पीछे पाकिस्तान की नापाक कोशिशें दुनिया के लिए नई नहीं हैं। जम्मू-कश्मीर में सीमा पार से जारी आतंकवाद के ठोस सबूत पाकिस्तान को सौंप दिए गए हैं, लेकिन मुद्दों को हल करने के मकसद से काम करने के बजाय पाक इनसे ध्यान हटाने के लिए कई तरह के हथकंडे इस्तेमाल करता है।
भारत ने कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का एक अभिन्न हिस्सा है और रहेगा। पाकिस्तान इसे लेकर जो बयान देता आया है, वो गलत और भ्रामक हैं। आतंकवाद कश्मीर और इस रीजन में स्थिरता के लिए चुनौती है। पाकिस्तान को अपने यहां और POK में मानवाधिकार की स्थिति में सुधार लाने और आतंकवाद को खत्म करने के लिए गंभीरता से सोचना चाहिए।


भारत की तरफ से कहा गया कि पाकिस्तान के फॉरेन मिनिस्टर ने यह माना है कि अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंधित संगठन लश्करे तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद पाक की जमीन से चलाए जा रहे हैं। पाक को आतंकी ठिकानों को खत्म करना चाहिए और आतंकवाद के साजिशकर्ताओं को इंसाफ के कटघरे में लाना चाहिए।
चीन में हाल ही में हुई ब्रिक्स समिट में रीजनल सिक्युरिटी पर चिंता जाहिर की गई थी। उसी दौरान पाक के फॉरेन मिनिस्टर ख्वाजा आसिफ ने जिओ न्यूज के एक शो में कहा था कि लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी संगठन पाकिस्तान की जमीन से ऑपरेट कर रहे हैं। इन संगठनों पर कुछ बंदिशें लगनी चाहिए। ब्रिक्स देशों के ज्वाइंट स्टेटमेंट में लश्कर, जैश जैसे गुटों को दुनिया के लिए खतरा बताया गया था।
इससे पहले, भारत ने रविवार को UN में कहा था कि जब तक आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर को सजा न दिला दें, हम चैन से नहीं बैठेंगे। UN में भारत के रिप्रजेंटेटिव सैय्यद अकबरुद्दीन ने कहा कि हमें उम्मीद है कि UN भी मसूद अजहर को आतंकी घोषित करेगा।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *