राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा तैयार उच्च शिक्षण संस्थानों की राष्ट्रीय रैंकिंग आज जारी की. इसमें भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) मद्रास ने पहला स्थान प्राप्त किया. जबकि भारतीय विज्ञान संस्थान (IISC) बेंगलुरु को सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय और दिल्ली के मिरांडा हाउस को सर्वश्रेष्ठ कॉलेज चुना गया.
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इस अवसर पर कहा कि दीक्षांत समारोहों में टॉपरों और मेडल हासिल करने वालों में जहां महिला स्नातकों का दबदबा रहता है वहीं देश में उच्च शिक्षा व्यवस्था में लड़कियों की सहभागिता अपेक्षाकृत कम है, यह चिंता की बात है. उन्होंने कहा कि “मैं उच्च शिक्षा व्यवस्था में लड़कियों के अपेक्षाकृत कम नामांकन को रेखांकित करना चाहूंगा, खासकर पूर्वी संस्थानों में. यह सिर्फ चिंता की बात नहीं है बल्कि यह विरोधाभास भी है, क्योंकि छात्रायें स्कूली परीक्षा में भी सामान्यतया छात्रों से बेहतर करती हैं. जब भी मौका मिलता है तो छात्राएं उच्च शिक्षा में भी यह करके दिखाती हैं.
नेशनल इंस्टीट्यूट रैंकिंग फ्रेमवर्क (NIRF) 2019 पर आधारित इस रैंकिंग के चौथे संस्करण की घोषणा में भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु और IIT दिल्ली को क्रमश: दूसरा और तीसरा स्थान दिया गया है. टाप 10 संस्थानों में से सात IIT हैं. जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) इस सूची में क्रमश: सातवें और दसवें स्थान पर हैं.
विश्वविद्यालयों की श्रेणी में IISC बेंगलुरु को पहला स्थान दिया गया, उसके बाद JNU और BHU हैं. इसके आलावे यूनिवर्सिटी ऑफ हैदराबाद चौथे, कलकत्ता यूनिवर्सिटी पांचवें, जादवपुर यूनिवर्सिटी प. बंगाल छठवें, अन्ना यूनिवर्सिटी तमिलनाडु सातवें, अमृता विश्व विद्यापीठम, कोयम्बटूर आठवें, मणिपाल एकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन नौंवें तथा सावित्रीबाई फूले पुणे यूनिवर्सिटी ने दसवां स्थान प्राप्त किया है.
कॉलेजों की रैंकिंग में दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस को सर्वश्रेष्ठ और उसके बाद हिंदू कॉलेज दिल्ली और प्रेसीडेंसी कॉलेज चेन्नई हैं. सेंट स्टीफंस कॉलेज इस श्रेणी में चौथे स्थान पर है.
शुरुआती दस इंजीनियरिंग संस्थानों में आठ IIT हैं. आईआईटी, मद्रास इस श्रेणी में सबसे आगे है और उसके बाद IIT दिल्ली और IIT मुंबई हैं. प्रबंधन संस्थानों की श्रेणी में पहले छह स्थानों पर भारतीय प्रबंधन संस्थानों (IIM) का कब्जा है. इनमें IIM बेंगलुरु सबसे ऊपर है, इस श्रेणी में आईआईटी-दिल्ली, आईआईटी-मुंबई और आईआईटी-रुड़की भी 10 सर्वश्रेष्ठ संस्थानों की सूची में शामिल हैं.
जामिया हमदर्द को फॉर्मेसी के लिये सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय चुना गया जबकि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) और नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी, बेंगलुरु को क्रमश: सर्वश्रेष्ठ मेडिकल कॉलेज और विधि विद्यालय चुना गया.
दिल्ली विश्वविद्यालय के छह कॉलेजों ने कॉलेजों की श्रेणी में टॉप टेन में जगह बनाई है. मिरांडा हाउस ने लगातार तीसरी बार इस श्रेणी में पहला स्थान हासिल किया. हिंदू कॉलेज, सेंट स्टीफंस कॉलेज, लेडी श्री राम कॉलेज फॉर वीमन, श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स और हंसराज कॉलेज ने क्रमश: दूसरा, चौथा, पांचवां, सातवां और नौवां स्थान हासिल किया. इसके अलावा देश के पहले 100 कॉलेजों में भी दिल्ली विश्वविद्यालय के 22 और कॉलेजों ने अपनी जगह बनायी. इस रैंकिंग प्रक्रिया में कुल 3,127 संस्थानों ने हिस्सा लिया. मानव संसाधन विकास मंत्रालय 2016 से नेशनल इंस्टीट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क (NIRF) का प्रकाशन कर रहा है.
BHU अर्धचंद्राकार परिधि में 1365 एकड़ क्षेत्रफल वाले बीएचयू में पांच संस्थान, 16 संकाय और 134 विभाग हैं. 90 देशों के 600 विद्यार्थी के साथ ही यहाँ 32 हजार विद्यार्थी पढ़ते हैं, जिन्हें पढ़ने के लिए 19 सौ शिक्षक कार्यरत हैं. उत्तर भारत के सबसे बड़े महामना कैंसर सेंटर के अलावे यहाँ देश का सबसे बड़ा ट्रामा सेंटर है. 57 देशों के साथ बीएचयू का शैक्षणिक करार है,इसके अलावे दुनिया की कई बड़ी कंपनियों से इसके शैक्षणिक समझौते हैं.
अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर यहाँ के आईआईटी, कृषि, चिकित्सा समेत अन्य कई संस्थानों में हुए शोध को मान्यता मिली है. हाल ही में बीएचयू ने स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत इक अन्तर्राष्ट्रीय कंपनी से MOU किया है, कैंपस को स्मार्ट बनाने का कार्य आरंभ भी हो चूका है. एक मल्टी नेशनल कंपनी के साथ हुए करार के तहत विज्ञान संस्थान में उच्चस्तरीय शोध की सुविधाओं वाला लैब स्थापित है. पर्यावरण एवं धारणीय विज्ञान की ओर से यहाँ सुपर कंप्यूटर स्थपित किया जा रहा है. इसके अलावे यहाँ सुपर स्पेशियालटी, मल्टी आर्गन ट्रांसप्लांट, बोनमैरो व स्टेमसेल, सेंट्रल डिस्कवरी सेंटर, मैटर्नीटी व चाइल्ड हेल्थ केयर निमार्णाधीन है.
केंद्रीय विश्वविद्यालयों में केवल BHU ही आयुर्वेद व माडर्न मेडिसीन की शिक्षा देता है. एक छत के नीचे प्रौद्योगिकी, संस्कृत, कला तथा विज्ञान सभी के साथ सामंजस्य बैठाते हुए यह पहला विश्वविद्यालय है जो जनता को सीधे स्वास्थ्य लाभ भी देता है. बीएचयू ने अपने आईआईटी शोध की गुणवत्ता में सुधार करने के साथ ही पब्लिकेशन और पब्लिक परसेप्शन पर भी काम शुरू कर चूका है. इस बार एनआईआरएफ में बीएचयू के चिकित्सा विज्ञान को छठां तथा आईआईटी बीएचयू को 11वां स्थान मिला है.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *