JNU में पहली बार करगिल विजय दिवस का जश्न, VC ने माँगा आर्मी टैंक

 198 


जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में पहली बार करगिल विजय दिवस का जश्न मनाया गया। JNU गेट से कन्वेंशन सेंटर तक शहीदों की शान में 2200 फीट के झंडे के साथ तिरंगा मार्च निकाला गया। JNU में अब एक पुराने आर्मी टैंक का इंतजाम भी किया जा सकता है।
करगिल विजय दिवस के जश्न के मौके पर केन्द्रीय मंत्री वीके सिंह और धर्मेंद्र प्रधान भी कैंपस पहुंचे। JNU के VC जगदीश कुमार ने जनरल वीके सिंह से अपील की कि वह JNU के लिए एक पुराने आर्मी टैंक का इंतजाम करने में मदद करें, ताकि यूनिवर्सिटी की किसी खास जगह उसे रखा जा सके। VC ने कहा कि यूनिवर्सिटी के भीतर एक आर्मी टैंक छात्रों को भारतीय सेना के त्याग और बलिदान की याद दिलाता रहेगा।
JNU में करगिल विजय दिवस के जश्न में क्रिकेटर गौतम गंभीर, रिटायर्ड मेजर जनरल जीडी बख्शी, सुप्रीम कोर्ट की वकील मोनिका अरोड़ा, लेखक राजीव मल्होत्रा, वेटरंस इंडिया के प्रेजिडेंट बीके मिश्रा समेत कई नामचीन शख्सियत पहुंचीं। आर्मी बैंड, तिरंगा मार्च और 23 शहीदों के परिवार के साथ JNU में यह जश्न मनाया गया।


केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने कहा कि भारत पर कोई बाहरी आक्रमणकारी गद्दारों की मदद के बिना हमला नहीं कर सका है। हमें यह समझना होगा कि अगर हम एक हैं तो हमें कोई नहीं हरा सकता है। वीके सिंह ने करगिल की लड़ाई और जवानों के अनुभवों को स्टूडेंट्स के साथ बांटा।
केन्द्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने इस मौके पर कहा कि JNU ने देश के लिए एक उदाहरण दिया है कि वह आर्मी के जवानों के लिए कितनी इज्जत रखता है।
क्रिकेटर गौतम गंभीर बाइक रैली ‘परिक्रमा पराक्रम’ और तिरंगा मार्च का हिस्सा भी बने। उन्होंने कहा कि हमें अपने झंडे, अपने देश और आर्मी का सम्मान करना चाहिए, जिसकी वजह से हम आजादी का आनंद ले रहे हैं। उन्होंने फ्रीडम ऑफ स्पीच से जुड़ी बहस छेड़ते हुए कहा कि मैं फ्रीडम ऑफ स्पीच में यकीन रखता हूं, लेकिन राष्ट्रीय ध्वज के साथ कोई समझौता नहीं किया जा सकता है। सेना के खिलाफ कोई टिप्पणी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि युवाओं को 26 जुलाई (शहीदी दिवस) और इसके महत्व के बारे में बताया जाना चाहिए।
मेजर जनरल जीडी बख्शी ने लोगों के साथ आर्मी के जवानों के अनुभवों को बांटा, जो कठिन परिस्थितियों में बॉर्डर पर तैनात होकर देश की रक्षा करते हैं। यूनिवर्सिटी में करगिल शहीदों के परिवार को सम्मानित भी किया गया। JNU प्रशासन की ओर से पहली बार कैंपस में करगिल विजय दिवस मनाया गया। HRD के ‘विद्या वीरता अभियान’ के तहत यूनिवर्सिटी और वेटरंस इंडिया ने मिलकर यह कार्यक्रम करवाया।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *