हॉकी विश्वकप की मेजबानी लगातार दूसरी बार भारत करेगा. 1982 में मुंबई, 2010 में नई दिल्ली और 2018 में भुवनेश्वर में मेजबान बन चूका भारत चौथी बार इस टूर्नामेंट की मेजबानी अपनी आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के मौके पर करेगा जो 13 से 29 जनवरी 2023 तक खेला जायेगा.
पिछले वर्ष हॉकी विश्वकप का सफल आयोजन करने के बाद भारत को पुनः 2023 में होने वाले पुरुष हॉकी विश्वकप की मेजबानी सौंपने की घोषणा शुक्रवार को लॉसाने, स्विटजरलैंड में इंटरनेशनल हॉकी फेडरेशन के एक्जिक्यूटिव बोर्ड की बैठक के बाद हो गयी. भारत सहित तीन देश 2022-23 मेजबानी के लिये दावेदार थे. 1 से 17 जुलाई 2022 के बीच होने वाले महिला हॉकी विश्वकप की मेजबानी स्पेन और नीदरलैंड्स संयुक्त रूप से करेंगे. पिछले वर्ष प्रतियोगिता के दौरान सारे मुकाबले ओडिशा में खेले गए थे. तब फाइनल में बेल्जियम ने नीदरलैंड्स को पेनल्टी शूटआउट में 3-2 से मात दी थी, जबकि भारत छठे स्थान पर था. 1971 में पहली बार हॉकी विश्व कप का आयोजन स्पेन में किया गया, जहां 10 टीमों ने भाग लिया था.
भारत के अलावा हॉलैंड ने तीन बार पुरूष हॉकी विश्वकप की मेजबानी की है. भारत ने आखिरी बार 1975 में पाकिस्तान को हराकर यह खिताब जीता था, 1973 में वो उपविजेता बना था. हॉकी इंडिया के अध्यक्ष मोहम्मद मुश्ताक अहमद ने इसपर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि हम अपने देश की स्वतंत्रता के 75 बरस का जश्न एक विशिष्ट अंदाज में मनाना चाहते थे. हमने 2018 विश्वकप की सफल मेजबानी की है और एक बार पुनः हम भव्य ढ़ंग से इसका आयोजन करेंगे.
अंतर्राष्ट्रीय हॉकी महासंघ के CEO थिएरी वेल ने अपने आधिकारिक बयान में कहा कि मेजबानी के लिए कई उत्कृष्ट बोलियां मिली थीं. उनमें से किसी एक को लेकर फैसला करना काफी कठिन था. फैसला लेते वक्त हर बोली की आय सृजन करने की क्षमता को भी देखा गया.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *