GDP ग्रोथ रेट में चीन को पीछे छोड़ा भारत, दिसंबर तिमाही में 7.2% रही वृद्धि दर

 77 

लंबे वक्त के बाद सरकार के लिए आज एक राहत भरी खबर आई. अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर सरकार को आखिर अच्छे नंबर हासिल हो गए. वित्त वर्ष 2017-18 की तीसरी तिमाही में देश की जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) की वृद्धि दर 7.2 फीसदी रही है. आधिकारिक आंकड़ों से बुधवार को यह जानकारी मिली. चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के दौरान जीडीपी की वृद्धि दर 6.5 फीसदी थी. जीडीपी में बढ़ोतरी का ये आंकड़ा इस तिमाही में चीन से भी ज्यादा रहा है.
बयान में कहा गया, वित्त वर्ष 2017-18 की जीडीपी स्थिर (2011-12) कीमतों के आधार पर 130.04 लाख करोड़ रुपये रहेगी. जबकि वित्त वर्ष 2016-17 का पहला संशोधित अनुमान 121.96 लाख करोड़ रुपये था, जिसे 31 जनवरी 2018 को जारी किया गया था. वित्त वर्ष 2017-18 में जीडीपी की वृद्धि दर 6.6 फीसदी रहने का अनुमान लगाया गया है, जबकि वित्त वर्ष 2016-17 में यह 7.1 फीसदी था.
इकोनॉमिक एडवाइजरी काउंसिल के चेयरमैन डॉ. बिबेक देबरॉय ने कहा कि इकोनॉमी सही दिशा की ओर है और तेजी से आगे बढ़ रही है. इकोनॉमी में मौजूदा बढ़ोतरी बताती है कि सरकार की ओर से उठाए गए कदम अब नतीजे दिखाने लगे हैं. आने वाली तिमाही में इसमें और बढ़ोतरी होगी क्योंकि इंडस्ट्रियल और सर्विस सेक्टर में सरकार लगातार ध्यान दे रही है और संगठनात्मक सुधारों की तरफ गंभीर है.

loading…


Loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *