राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्म के 150वें वर्ष के उपलक्ष्य में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के लोक संपर्क एवं संचार ब्यूरो,पटना ने गांधी मैदान मसौढ़ी में आम लोगों विशेषकर युवाओं को महात्मा गांधी के विचारों से जोड़ने के लिए एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन हुआ.
कार्यक्रम का उद्घाटन बिहार के कला-संस्कृति,युवा एवं खेल मंत्री प्रमोद कुमार, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के ब्यूरो आफ आउटरीच एंड कम्युनिकेशन के निदेशक विजय कुमार और अनुमंडलाधिकारी संजय कुमार ने संयुक्त रूप से किया. इस अवसर पर अपने संबोधन में कला एवं संस्कृति मंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी का पूरा जीवन ही आदर्श है. देश की आजादी में उनकी भूमिका को कभी भुलाया नहीं जा सकता. हम सबको महात्मा गांधी के दिखाए रास्ते पर ही चलाते हुए देश को आगे बढ़ाना है. साथ ही वक्ताओं ने बापू के जीवन के विभिन्न प्रसंगों को याद करते हुए देश और समाज में स्वच्छता, सद्भाव और समरसता की स्थापना करने की साथ ही प्लास्टिक मुक्त समाज के निर्माण और स्वदेशी वस्तुओं के उपयोग पर बल दिया गया. इस अवसर पर गांधी जी के विचारों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए शहर में पदयात्रा भी की गई. पांच दिवसीय इस आयोजन में केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा गांधीजी के जीवन पर आधारित चित्र प्रदर्शनी भी लगी है.
सुप्रसिद्ध लोक गायिका डॉ नीतू कुमारी नवगीत ने उद्घाटन सत्र में बापू का प्रिय भजन ‘रघुपति राघव राजा राम पतित पावन सीताराम’ प्रस्तुत किया. महात्मा गांधी के जीवन और उनके कर्मों को समाहित करता लोकगीत ‘सत्य की राह दिखाए दियो रे लाठी वाले बापू, अहिंसा का अलख जगाए दियो रे लाठी वाले बापू, चंपारण को अपना बनाए लियो रे लाठी वाले बापू’ को श्रोताओं ने खूब पसंद किया. उन्होंने अमन की प्यासी इस धरती को दो बापू का अमर पयाम, सत्य अहिंसा के साए में पाएगी दुनिया आराम तथा दे दी हमें आजादी बिना खडग बिना ढाल साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल जैसे गीत भी पेश किए. श्रोताओं ने इनके द्वारा गाए गये लोकगीत ‘चुनरिया हम हूँ पहनब खादी के’ काफी पसंद किया.
कार्यक्रम में नवगीत ने स्वच्छ भारत के लिए काम करने की अपील करते हुए ‘घर घर अलख जगायेंगे, स्वच्छ भारत बनेगा’ और ‘सबसे बड़ा है गहना, साफ रहना ओ री बहना, साफ रहना; बापू का भी था यही सपना, साफ रहना’ जैसे प्रेरणास्पद गीत भी पेश किए. गंगा नदी सहित देश की सभी नदियों को स्वच्छ रखने का आह्वान करते हुए नीतू कुमारी ने ‘चलली गंगोत्री से गंगा मैया जग के करे उद्धार’ गीत गाकर सबके मन में भक्ति का भाव भी जगाया. राकेश कुमार ने हारमोनियम पर, राजन कुमार ने तबला पर, कुलजीत कुमार पाण्डेय ने नाल पर और सोनल कुमार ने पैड पर संगत किया.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *