ED का ऐक्शन : 15 महीने में जब्त की रेकॉर्ड संपत्ति

 82 


ईडी ने पिछले 15 महीनों में करीब 12 हजार करोड़ रुपये की सम्पत्ति जब्त की है। यह आंकड़ा उसके पहले के दस वर्षों में डिपार्टमेंट द्वारा जब्त की गई सम्पति की रकम से भी ज्यादा है।
केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री संतोष गंगवार ने एक सवाल के लिखित जवाब में बताया कि प्रवर्तन निदेशालय ने पिछले एक साल में 175 प्रोविजनल अटैचमेंट ऑर्डर जारी करने के बाद करीब 11,032.27 करोड़ कर सम्पत्ति अटैच की है। जबकि साल 2005 से 2015 के बीच जब्त की गई सम्पत्ति की कीमत करीब 9 हजार करोड़ है। वर्तमान वित्त वर्ष के पहले तीन महीनों में 965.84 करोड़ रुपये जब्त किए गए।
ये आकड़े ED की वेबसाइट पर उपलब्ध हैं। इस आंकड़ में उछाल साल 2016-17 में उस वक्त आया जब भगोड़े कारोबारी विजय माल्या की संपत्तियां जब्त करने का काम शुरू हुआ। सूत्रों का कहना है कि उस दौरान माल्या की करीब 10 हजार करोड़ रुपये की सम्पत्ति जब्त की गई हैं।
तमिलनाड़ु में भी इस दौरान कुछ जगह छापेमारी हुई थी, इसमें शेखर रेड्डी केस सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। सूत्रों का कहना है कि ED ने अपने अधिकारियों को गलत ढंग से कमाए गए पैसे पर खुलकर कार्रवाई करने की बात कही है। इसी का नतीजा है कि आकड़े पिछले 10 साल के मुकाबले काफी ज्यादा बड़े हैं।


सूत्रों का कहना है कि इस पूरे मामले में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट और सीबीआई जैसी एजेंसियों से सामंजस्य बैठाने के भी पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं। इसके अलावा कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय ने भी फर्जी कंपनियों पर पकड़ बनाने के लिए एक कमिटी बनाई है, जो इन सब एजेंसियों से सम्पर्क में रहती है। ED ऐसी फर्जी कंपनियों पर कार्रवाई तेज कर रही है जिन्होंने विदेशों में करोड़ों रुपये ट्रांसफर किए हैं। अप्रैल में एड ने चेन्नै के एक 36 साल के व्यक्ति को गिरफ्तार किया था, जिसने अपनी 6 फर्जी कंपनियों के जरिए 78 करोड़ रुपये विदेशों में भेजे थे।
रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज द्वारा 12 जुलाई तक करीब डेढ़ लाख फर्जी कंपनियां बंद कर दी गई हैं। इनमें से करीब 32 पर्सेंट कंपनियां दक्षिणी राज्यों की हैं। 6 अप्रैल को ईडी ने देश भर के 10 राज्यों की 18 जगहों पर छापे मारे और तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश में EPFO के अधिकारियों समेत कई सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ केस फाइल किया था।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *