वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम के सम्मेलन से अलग स्विट्जरलैंड के दावोस में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप से मुलाकात की. इस दौरान दोनों ने परस्पर हित, द्विपक्षीय कारोबार, क्षेत्रीय सुरक्षा, अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया के अलावा कश्मीर मुद्दे पर भी चर्चा की. दावोस में कई देशों के राष्ट्राध्यक्ष पहुंचे हुए हैं.
इस दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि वह कश्मीर के हालात पर करीबी नजर बनाए हुए हैं. कहा जाता है कि उन्होंने यह भी कहा कि कश्मीर के संबंध में हम भारत और पाकिस्तान की अगर मदद कर सकते हैं तो निश्चित रूप से ऐसा करेंगे. ट्रंप ने कहा कि इमरान खान उनके अच्छे मित्र हैं. हाँलाकि जब उनसे पूछा गया कि क्या वह आने वाले समय में पाकिस्तान दौरे पर जाएंगे तो उन्होंने कहा कि अभी तो हम दोनों साथ-साथ बैठे हुए हैं.
राष्ट्रपति ट्रंप ने पिछले साल अगस्त में कहा था कि अगर भारत चाहेगा तो वे कश्मीर मामले में मध्यस्थता करने के लिए तैयार हैं. इस मुद्दे पर काफी चर्चा हुई और भारत ने इस पर कड़ा प्रतिवाद किया. भारत शुरू से कहता रहा है कि कश्मीर मुद्दा पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय है और इस पर तीसरे देश की दखलंदाजी उसे कतई पसंद नहीं. लेकिन बाद में अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि इस मामले को भारत और पाकिस्तान को द्विपक्षीय स्तर पर सुलझाना चाहिए.
भारत एक जहाँ कश्मीर को आंतरिक मामला बताता है और शुरू से कश्मीर पर किसी तीसरे देश की भूमिका का विरोध करता रहा है. तो वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान इसे दुनिया के अलग-अलग मंचों पर लगातार उठाता रहा है. पिछले साल नवंबर में भी इमरान खान ने राष्ट्रपति ट्रंप से फोन पर बात कर कश्मीर का दुखड़ा रोते हुए इस बात पर जोर दिया था कि राष्ट्रपति ट्रंप को कश्मीर मुद्दे के शांतिपूर्ण समाधान के लिए अपने प्रयासों को जारी रखना चाहिए.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *