DNA की गाली देने वालों से मिल गए नीतीश : तेजस्वी

 84 


पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि चुनाव के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार चुनाव के दौरान नीतीश कुमार के DNA पर सवाल उठाया था और नीतीश ने एक बड़ा आंदोलन खड़ा किया, बिहार के लोगों के बाल और नाखून काटकर दिल्ली भेजते हुए कहा गया कि मोदी जी टेस्ट कर लीजिए बिहार के लोगों का DNA कैसा है। आज नीतीश ने DNA की गाली देने वालों के पैर छू लिए, जाकर उनसे मिल गए।
राजद सुप्रीमो लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव ने मोतिहारी से ‘जनादेश अपमान यात्रा’ की शुरुआत करने के दौरान जन सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री पर तीखा हमला बोला।
तेजस्वी ने कहा कि नीतीश ने BJP के साथ जाने का फैसला बहुत पहले कर लिया था। सब कुछ सेट था। नीतीश को BJP के साथ जाना था तेजस्वी तो सिर्फ बहाना था। नीतीश राजनीतिक साजिश के तहत मुझे और मेरे परिवार के लोगों पर लगातार केस दर्ज करा रहे हैं।
तेजस्वी ने कलेक्ट्रेट मैदान में बापू की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर प्रतिमा के नीचे धरने पर बैठे। बापू की प्रतिमा के नीचे धरने पर बैठने के बाद तेजस्वी ने कहा कि आज हम महात्मा गांधी से माफी मांगने आए हैं। बापू हमें माफ कर दो, हमसे अनजाने में भूल हो गई। हमें नहीं पता था कि जिस आदमी के साथ सरकार बना रहे हैं वह आपके हत्यारे गोडसे के समर्थकों और RSS से जाकर मिल जाएगा।
तेजस्वी ने कहा कि सत्ता आती जाती रहती है। हमें इसका गम नहीं है। हम वैचारिक लड़ाई लड़ रहे हैं और इसमें जनता के सहयोग की जरूरत है। आज देश में भाई-भाई को बांटने और नफरत फैलाने की राजनीति हो रही है। हमें इसका मुकाबला करना है। हम देश को एक रखने की लड़ाई लड़ रहे हैं। इसमें सभी वर्ग, जाति और समुदाय के लोगों को एक साथ आने की जरूरत है।


तेजस्वी ने कहा कि बापू ने सपना देखा था कि आजाद भारत में आर्थिक समानता होगी, लेकिन उनका सपना अधूरा है। हम उनके सपने को साकार करने के लिए काम करेंगे। समाज के आखरी पायदान पर खड़े व्यक्ति को भी वही सुविधाएं मिलनी चाहिए जो पहले पायदान वाले को मिलती है। हमें इसके लिए काम करना है।
तेजस्वी की दो दिनों की पहले चरण की इस यात्रा में राजद के तमाम नेता मौजूद थे। बापू की प्रतिमा स्थल पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने के बाद तेजस्वी मोतिहारी से करीब 20 किलोमीटर दूर माधोपुर में जानकी देवी प्रोजेक्ट स्कूल मैदान में जनसभा को संबोधित किया।
तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार की जनता द्वारा दिए गए जनादेश का अपमान किया है। उन्हें जनता कभी माफ नहीं करेगी। नीतीश कुमार ने पलटी मारकर सरकार बनाई है। गरीबों की आवाज को कभी दबाया नहीं जा सकता है। देश से RSS को भगाना है। इसके लिए युवाओं को आगे आना होगा। तेजस्वी ने 27 अगस्त को पटना के गांधी मैदान में राजद की ‘भाजपा हटाओ, देश बचाओ’ रैली में आने का न्योता भी दिया।
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 26 जुलाई को इस्तीफा दिया और अगले दिन भाजपा के साथ मिलकर नई सरकार बनायी थी। महागठबंधन छोड़कर भाजपा के साथ नीतीश के हाथ मिलाने को राजद ने जनता के आदेश का अपमान बताया। राजद का कहना था कि जनता से 2015 के चुनाव में महागठबंधन को भाजपा के खिलाफ वोट दिया था। भाजपा के साथ मिलकर नीतीश ने जनता को धोखा दिया है। इस बात को जनता के बीच ले जाने के लिए तेजस्वी ने ‘जनादेश अपमान यात्रा’ के नाम से यात्रा करने की घोषणा की।
जदयू ने CBI द्वारा भ्रष्टाचार के आरोप में केस दर्ज होने के बाद तेजस्वी यादव को जनता के बीच जाकर फैक्ट्स रखने को कहा था। जदयू जीरो टॉलरेंस की बात कह कर परोक्ष रूप से तेजस्वी से इस्तीफा भी मांग रही थी। वहीं राजद का कहना था कि तेजस्वी इस्तीफा नहीं देंगे, उनके 80 विधायक हैं।
भ्रष्टाचार के मुद्दे पर नीतीश महागठबंधन से अलग हो गए थे। आरजेडी नीतीश के भाजपा के साथ मिलने को प्री प्लांड बताती है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *