पटना और आसपास के क्षेत्र में लगातार पकड़े जा रहे विदेशी शराब के मद्देनजर मद्यनिषेध एवं उत्पाद विभाग ने अपने एक सख्त मिजाज़ अधिकारी डॉ आनंद कुमार को पटना प्रमंडल के उपायुक्त मद्यनिषेध पद पर पदस्थापित करने का निर्णय लिया है.
मद्यनिषेध, उत्पाद एवं निबंधन विभाग द्वारा 10 जून को जारी अधिसूचना द्वारा डॉ आनंद को इसीके साथ मगध प्रमंडल गया के उपायुक्त मद्यनिषेध का अतिरिक्त प्रभार भी सोंपा गया है. डॉ आनंद इसके पूर्व सहायक आयुक्त सासाराम में पदस्थापित थे, जहाँ उन्होंने मद्यनिषेध के क्षेत्र में प्रशंसनीय कार्य किया. जिला मुख्यालय के दक्षिण स्थित कादिरगंज में पिछले चालीस- पचास वर्षों से लगातार अवैद्य शराब चुलाई एवं बिक्री होती थी. उस इलाके में इन्होंने शराब बिक्री पुरे तौर पर बंद करवा दिया.
पटना विश्वविद्यालय से रसायन शास्त्र में डाक्टरेट की उपाधि प्राप्त डॉ आनंद को पूरा विभाग एक सख्त अधिकारी के रूप में जानता है. बताया जाता है कि उन्होंने अभी पदभार ग्रहण नहीं किया है पर उत्पाद विभाग के अधिकारी मद्यनिषेध के बारे में काफी सतर्क हो गए हैं. विभागीय अधिसूचना द्वारा इनके अलावे रामबाबु अधीक्षक मद्यनिषेध औरंगाबाद को सासाराम का सहायक आयुक्त मद्यनिषेध तथा सीमा चौरसिया निरीक्षक पटना को औरंगाबाद अधीक्षक मद्यनिषेध के पद पर पदस्थापित किया गया है.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *