CBSE पेपर लीक मामले में दो शिक्षकों सहित कोचिंग सेंटर संचालक गिरफ्तार

 92 


केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) के 10वीं गणित और 12वीं कक्षा के अर्थशास्त्र पेपर लीक मामले की जांच में जुटी दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दो स्कूली शिक्षक एवं एक कोचिंग सेंटर संचालक को गिरफ्तार किया है.
कोचिंग सेंटर के संचालक तौकीर और पब्लिक स्कूल के दो शिक्षक रिषभ व रोहित को क्राइम ब्रांच की स्पेशल इंस्वेटिंग टीम (SIT) ने बाहरी दिल्ली से गिरफ्तार किया. एक अन्य प्रिंसिपल को हिरासत में लेकर पूछताछ किया जा रहा है. पूछताछ में खुलासा हुआ है कि इन आरोपियों ने 12वीं का पेपर लीक किया था, वहीं अभी 10वीं मामले में छापेमारी जारी है.


दिल्ली पुलिस के अनुसार दोनों शिक्षक परीक्षा शुरू होने से करीब एक घंटे पहले ही पेपर खोल लेते थे और उसे कोचिंग सेंटर के तौकीर की मदद से इच्छुक छात्रों को वाट्सएप के जरिये पहुंचा देते थे. ऋषभ और रोहित ने सुबह 9.15 बजे लिफाफे की सील खोलकर इकोनॉमिक्स के पेपर की फ़ोटो खींची और प्राइवेट कोचिंग इंस्टीटूट में पढ़ाने वाले तौकीर को व्हाट्सएप्प के जरिये भेज दिया. तौकीर ने पेपर एक छात्र को भेजा जो आगे वायरल किया गया. नियमानुसार पेपर का लिफाफा 9.45 बजे खोलना होता है, लेकिन आधे घंटे पहले ही लिफाफा खोला गया. पेपर लीक की शुरुआती खबरों के बाद सीबीएसई ने पेपर का लिफाफा खोलने का समय 9.45 से बढ़ाकर 10 बजे कर दिया था.
क्राइम ब्रांच के डीसीपी राम गोपाल नाईक के नेतृत्व में सीबीएसई हेडक्वाटर में चेयरपर्सन समेत कई ऑफिशियल्स से पूछताछ भी की गयी है. मामले में अबतक 60 लोगों से पूछताछ की जा चुकी है. पुलिस उन छह वाट्सएप ग्रुप की जांच तेभी कर रही है जिनके माध्यम से पेपर बांटे गए थे. गूगल से भी सीबीएसई चेयरपर्सन के पास पेपर लीक संबंधी ईमेल भेजने वाले व्यक्ति के अकाउंट की जानकारी मिल गयी है. ज्ञात है कि 10वीं गणित की परीक्षा से 24 घंटे पहले देव नारायण नामक व्यक्ति के जीमेल अकाउंट से सीबीएसई चेयरपर्सन के आधिकारिक जीमेल अकाउंट पर पेपर लीक होने संबंधी ईमेल आया था.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *