बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को कहा कि पार्टी सत्ता में वापस आने पर जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटा देगी और देशभर में नागरिकों के लिए राष्ट्रीय नागरिक पंजी लाएगी. बालाकोट हवाई हमले पर सवाल उठाने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की आलोचना करते हुए शाह ने कहा कि ये सिर्फ अल्पसंख्यकों को संतुष्ट करने के लिए है. उन्होंने उनसे कश्मीर में अलग प्रधानमंत्री की मांग पर अपना रुख स्पष्ट करने को भी कहा, जैसा की उनके सहयोगी नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला चाहते हैं.
दार्जिलिंग से उम्मीदवार राजू सिंह बिष्ट के लिए प्रचार करते समय उन्होंने कहा, ”ममता बनर्जी और विपक्षी नेता हवाई हमले से नाखुश हैं. वे सिर्फ अल्पसंख्यक समुदाय को खुश करने के लिए ऐसा कर रहे हैं. लेकिन मैं स्पष्ट तौर पर यह कहना चाहूंगा कि हम ऐसी ताकतों को जीतने नहीं देंगे.” उन्होंने कहा, ”केन्द्र में बीजेपी की अगली सरकार बनाने के बाद हम कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा देंगे.” शाह ने बनर्जी पर राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) पर लोगों को भ्रमित करने का आरोप भी लगाया. ममता विवादस्पद राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) सख्ती से विरोध करती रही हैं, जो सिर्फ असम में लागू है.
शाह ने कहा, ”हमारा आपसे वादा है कि हर एक घुसपैठिए को बाहर निकालने के लिए देशभर में एनआरसी लाएंगे. हम ममता बनर्जी की तरह घुसपैठियों को वोट बैंक की तरह इस्तेमाल नहीं करते. हमारे लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सर्वोपरि है. हम यह सुनिश्चित करेंगे कि देश के हर एक हिन्दू एंव बौद्ध शरणार्थी को नागरिकता मिले.”
उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री की भारतीय वायु सेना के पाकिस्तान के बालाकोट में किए हवाई हमले की ”सत्यता पर सवाल” उठाने की भी आलोचना की. शाह ने कहा कि आईएएफ के हमले से दो जगह मातम था एक पाकिस्तान और दूसरा ममता बनर्जी के कार्यालय में…. पुलवामा जिले में जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमलावर के सीआरपीएफ के काफिले पर हमला करने के बाद यह कार्रवाई की गई थी. पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे.
शाह ने पश्चिम बंगाल की नेता पर हमला करते हुए कहा, ”हमें पता चला है कि ममता बनर्जी हवाई हमले का मातम बना रही थीं. पाकिस्तान का हवाई हमले पर मातम मनाना समझ आता है लेकिन ममता बनर्जी क्यों मातम मना रही थीं? वह अल्पसंख्यक वोट बैंक को लुभाने के लिए मातम मना रही थीं. यह शर्मनाक है.”
ममता बनर्जी द्वारा प्रस्तावित महागठबंधन पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा कि उन्हें हैरत होती है कि कांग्रेस और माकपा क्यों तृणमूल की आलोचना कर रहे हैं जबकि वह उनके सहयोगी हैं. शाह ने राज्य में 42 में से 23 सीटों पर जीत दर्ज करने का लक्ष्य रखा है. 2014 आम चुनाव में बीजेपी यहां केवल दो सीटे जीत पाई थी.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *