मकर संक्रान्ति का त्योहार पूरे देश में उत्साह के साथ मनाया जाता है. मकर संक्रान्ति के दिन दान करना विशेष फलदायी माना जाता है. इसके अलावा, मकर संक्रान्ति पर कुछ आसान से कामों को करने से आप सूर्य और शनिदेव दोनों की कृपा पा सकते हैं तो जानें कि कौन से छोटे- मोटे काम कर हम अपनी राह आसन कर सकते हैं.
सूर्य का किसी राशि में गोचर संक्रांति कहलाता है. जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है तो मकर संक्रान्ति होती है. मकर संक्रान्ति बसंत ऋतु के आगमन का सूचक है. देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग नामों से यह त्योहार मनाया जाता है. तमिलनाडु में पोंगल, असम में बिहू, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र में संक्रान्ति मनाई जाती है. बिहार और UP में इसे खिचड़ी कहा जाता है.
इस समय सूर्य उत्तरायण होते हैं, जिससे हर कार्य का फल शुभ होता है. इस दिन यानी मकर संक्रान्ति के दिन किन कामों को करने से सूर्य देव प्रसन्न होंगे और कैसे सफलता मिलेगी जानें और वः कार्य अवश्य करें.
सर्वप्रथम सुबह जल्दी स्नान कर लें और पूर्व की दिशा में मुंह करके सूर्य देव की आराधना करें. “ऊँ भास्कराय नम:” मंत्र का कम से कम पांच बार उच्चारण अवश्य करें.
मकर संक्रान्ति पर तांबे के एक पात्र में दूध और जल लेकर सूर्यदेव को अर्घ्य देकर दिन की शुरुआत करें. लाल रंग का फूल अर्पित करना भी शुभ माना जाता है. सूर्य की कृपा से आपकी किस्मत संवर जाएगी. इस दिन गायत्री मंत्र का जाप भी अवश्य करें. मकर संक्रान्ति पर “ऊँ घृणि सूर्याय नम:” का जाप करने से जीवन की बाधाएं कम होती हैं.
मकर संक्रान्ति के दिन दान की विशेष महिमा मानी गई है. इसलिए आप कपड़ों के अलावा तिल, गुड़, घी, दालें गरीबों और जरूरतमंदों को अवश्य दान करें.
मकर संक्रान्ति के दिन खिचड़ी या चूड़ा-दही खाने की परंपरा है. इस दिन उरद दाल की खिचड़ी बनाएं और खाने से पहले शनिदेव को चढ़ाएं. इसके अलावा गरीबों को भी खिचड़ी दान करें.
मकर संक्रान्ति के दिन पतंग उड़ाने की भी परंपरा है. पतंग उड़ाने की परंपरा धार्मिकता से जुड़ी नहीं है. बल्कि इसका संबंध स्वास्थ्य लाभ से जुड़ा है. मकर संक्रान्ति मौसम में बदलाव का भी संकेत है. लोगों को पतंग उड़ाने के क्रम में धूप में वक्त बिताने का मौका मिलता है जिससे सर्दी में होने वाले संक्रमणों से बचने में मदद मिलती है.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *