दो विचारधाराएं 2019 के चुनाव में वैचारिक युद्ध के लिए आमने-सामने खड़ी होंगी. यह युद्ध (चुनाव) सदियों तक असर छोड़ने वाला है, इसलिए इसे जीतना बहुत अहम है.
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने दिल्ली के रामलीला मैदान में पार्टी के दो दिवसीय अधिवेशन की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा झंडा फहराकर शुरुआत करने के बाद की. कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि 2019 का चुनाव वैचारिक युद्ध का चुनाव है, दो विचारधाराएं आमने-सामने खड़ी हैं. यह युद्ध (चुनाव) सदियों तक असर छोड़ने वाला है और इसलिए मैं मानता हूँ कि इसे जीतना बहुत आवश्यक है. देश के हर कोने में भाजपा को पहुंचाने के लिए अटल जी और आडवाणी जी की जोड़ी ने जो संघर्ष किया, ऐसा संघर्ष शायद ही कभी हुआ हो. उनके संघर्ष हमें शक्ति प्रदान करेंगे.
शाह ने कहा कि उप्र में एक दूसरे का मुंह न देखने वाले आज हार के डर से एक साथ आ गए हैं, वो जानते हैं कि अकेले मोदी को हराना नामुमकिन है. उप्र में भाजपा 73 से एक भी कम 72 सीटें नहीं लाएगी, बल्कि ये 74 हो सकती हैं. 2019 का चुनाव मोदी बनाम ऑल पार्टी हो चुका है. पूरी दुनिया में मोदी जी जैसा लोकप्रिय नेता नहीं. महागठबंधन सिर्फ ढकोसला है. 2019 में मोदी सरकार बनवा दीजिए, केरल तक झंडा फहराएंगे.
शाह ने कहा कि भाजपा चाहती है जल्द से जल्द उसी स्थान पर भव्य राम मंदिर का निर्माण हो और इसमें कोई दुविधा नहीं है. हम प्रयास कर रहे है कि सुप्रीम कोर्ट में चल रहे केस की जल्द से जल्द सुनवाई हो, लेकिन कांग्रेस इसमें भी रोड़े अटकाने का काम कर रही है.
भाजपाध्यक्ष ने कहा कि नीरव मोदी, मेहुल चौकसी, विजय माल्या इन सबको लोन कांग्रेस के शासन में दिए गए, तब उनको भागने की जरूरत नहीं हुई. लेकिन जब चौकीदार सत्ता में आया तो इन्हें डर पैदा हुआ और वो बाहर भागे. इन सब चोरों को चौकीदार ही पकड़ कर लाएगा. जमानत पर घूमने वालों के आरोपों से कोई फर्क नहीं पड़ता. राहुल आरोप लगाते रहें, देश की जनता सब समझती है.


शाह ने कहा कि जिस भारत की कल्पना विवेकानंद जी ने की थी, उस भारत को हम मोदी जी के नेतृत्व में बनाने का पूरा प्रयास कर रहे हैं. 2014 में 6 राज्यों में भाजपा की सरकारें थी और 2019 में 16 राज्यों में भाजपा की सरकारें हैं. पांच साल के अंदर भाजपा का गौरव दोगुनी गति से बढ़ा है.
अमित शाह ने मोदी सरकार के सवर्ण आरक्षण के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि दोनों सदनों में सवर्ण आरक्षण बिल को पास कराकर सरकार ने युवाओं के सपनों को साकार करने का काम किया है. संविधान में जो अब तक के महत्वपूर्ण संशोधन हुए हैं उनमें 124वां संशोधन सबसे अहम है. दूसरा फैसला GST कानून के तहत हुआ. एक के बाद एक वस्तुओं के दाम कम करने और शुरुआती दिक्कतों को कम करने के लिए सरकार ने काम किया है. आज हम करोड़ों कार्यकर्ता प्रधानमंत्री जी को बधाई देते हैं.
पार्टी महासचिव अनिल जैन के अनुसार रामलीला मैदान में होने वाली राष्ट्रीय परिषद की बैठक भाजपा के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी राष्ट्रीय परिषद है. इसमें मंडल स्तर के कार्यकर्ता शिरकत कर रहे हैं. बैठक में हर लोकसभा क्षेत्र के दस प्रमुख नेता हिस्सा ले रहे हैं. बैठक में सभी सांसदों, विधायकों, परिषद के सदस्यों, जिला अध्यक्षों व महामंत्रियों के साथ क्षेत्रीय विस्तारकों को भी आमंत्रित किया गया है. बैठक में तीन प्रस्ताव पारित किए जाएंगे. बैठक में किसानों के विषय पर भी खासतौर से उल्लेख किया जाएगा.
बैठक में भ्रष्टाचार मुक्त सरकार पर जोर दिया जाएगा. पिछली सरकारों के घोटालों की तुलना करते हुए भाजपा की बेदाग छवि को लेकर जनता के बीच जाने को कहा जाएगा. प्रधानमंत्री दोनों दिन राष्ट्रीय परिषद की बैठक में मौजूद रहेंगे, मंच के पिछले हिस्से में अस्थाई प्रधानमंत्री कार्यालय भी बनाया गया है.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *