विधायकों और विधानपार्षदों की बैठक को संबोधित करते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमार स्वामी ने कहा कि वे हर चीज में कांग्रेस के लगातार हस्तक्षेप के कारण मुख्यमंत्री नहीं, बल्कि एक क्लर्क की तरह काम कर रहे हैं.
कर्नाटक में जेडीएस और कांग्रेस के संबंध लगातार बिगड़ते जा रहे हैं. गठबंधन सरकार की कमान संभाल रहे मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने संकेत दिए हैं कि कर्नाटक की सरकार आगामी लोकसभा चुनाव के बाद ज्यादा दिन तक नहीं टिक पाएगी. बैठक में मौजूद एक नेता के अनुसार कुमारस्वामी के बड़े भाई और PWD मंत्री एचडी रेवन्ना ने लोकसभा चुनाव तक एक भी शब्द नहीं बोलने का वादा किया.
जेडीएस के विधायकों के अनुसार कुमारस्वामी ने बैठक में गंठबंधन सरकार बनने के बाद से जेडीएस के सामने आने वाली कठिनाइयों के बारे में बताया. विधायकों और विधानपार्षदों की बैठक को संबोधित करते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी काफी भावुक हो गए. उन्होंने कहा कि वे हर चीज में कांग्रेस के लगातार हस्तक्षेप के कारण मुख्यमंत्री नहीं, बल्कि एक क्लर्क की तरह काम कर रहे हैं. गौरतलब है कि मई 2018 में भाजपा को सत्ता में आने से रोकने के लिए जेडीएस ने कांग्रेस के साथ हाथ मिला लिया था.
कुमारस्वामी ने कहा कि कांग्रेस के नेता उनसे वह सब कुछ करने के लिए मजबूर कर रहे हैं जो उनके पक्ष में है और इसे मानने के अलावा उनके पास कोई अन्य विकल्प भी नहीं है. मैं बहुत दबाव में काम कर रहा हूँ और कांग्रेस के नेता हमेशा उम्मीद करते हैं कि वे उनका कहना माने.
बैठक में मौजूद रहे एक विधायक ने कहा कि बैठक में वे बहुत दुखी और भावुक हो गए और बताया कि कांग्रेस उनपर दबाव बनाकर हर तरह के आदेशों पर हस्ताक्षर करने के लिए मजबूर कर रही है. उन्हें मंत्रिमंडल के विस्तार के लिए भी मजबूर किया गया और यहां तक कि उनकी मंजूरी के बिना सरकार नियंत्रित बोर्ड और निगमों के लिए अध्यक्ष भी नियुक्त कर दिए गए. गुजरते दिनों को साथ यह सब उनके लिए और कठिन होता जा रहा है.
बैठक में मौजूद रहे जेडीएस सुप्रीमो और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने विधायकों को आश्वासन दिया कि वे गठबंधन के खिलाफ तब तक कुछ नहीं करेंगे जब तक बेहद महत्वपूर्ण संसदीय चुनाव खत्म नहीं हो जाते है. देवगौड़ा ने कहा कि वह कर्नाटक से कम से कम आधा दर्जन लोकसभा सीटें जीतने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और वे कोई भी ऐसा कदम उठाकर पार्टी की संभावनाओं को खतरे में नहीं डाल सकते.
कांग्रेस विधायक डॉ. के. सुधाकर द्वारा कुछ जेडीएस मंत्रियों की शैक्षणिक योग्यता पर सवाल उठाने से भी गौड़ा परिवार कांग्रेस से नाराज हैं. गौड़ा को इस चुनाव में कांग्रेस से 12 लोकसभा सीटों की उम्मीद है. लोकसभा में कर्नाटक की 28 सीटों हैं जिनमें से 2 सीटें जेडीएस, 10 कांग्रेस और 16 भाजपा के पास है.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *