प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सत्ता में आए 55 महीने हो चुके हैं, इस दौरान उन्होंने कई कीर्तिमान स्थापित किये हैं. लोकसभा चुनाव से पहले अगर वह दो देशों का दौरा करते हैं तो बतौर प्रधानमंत्री सबसे ज्यादा विदेशों की यात्रा करने वाले दूसरे भारतीय प्रधानमंत्री बन जाएंगे.
इंदिरा गांधी ने बतौर भारतीय प्रधानमंत्री सबसे ज्यादा 113 देशों की यात्राएं की थी. जहां तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सवाल है तो उन्होंने कुल 92 विदेशी (एक ही देश की दोबारा यात्रा भी शामिल) यात्राएं की हैं और अब वो महज एक यात्रा से अपने पूर्ववर्ती मनमोहन सिंह से पीछे हैं. सिंह ने अपने प्रधानमंत्रीत्व कार्यकाल में 93 देशों (एक ही देश की दोबारा यात्रा भी शामिल) की यात्राएं की थी. हालांकि दोनों की विदेश यात्राओं में बड़ा अंतर यह है कि मनमोहन सिंह ने अपने दस साल के कार्यकाल के दौरान 93 देशों की यात्राएं की थी, जबकि मोदी ने अपने 55 माह के कार्यकाल में कुल 92 देशों की यात्राएं की हैं. इंदिरा गांधी ने अपने पन्द्रह साल के कार्यकाल में 113 देशों की यात्राएं की थी.
प्रधानमंत्री मोदी के 55 महीने के कार्यकाल के दौरान विदेशी दौरों पर हुए खर्च का ब्योरा देखा जाए तो मई 2014 से प्रधानमंत्री बनने के बाद उनके अब तक के विदेश दौरे पर करीब 2,021 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. सरकार की ओर से संसद में दी गई जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी की विदेश यात्रा के दौरान चार्टर्ड उड़ानों, विमानों के रखरखाव और हॉटलाइन सुविधाओं पर कुल 2,021 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. मनमोहन सिंह के दूसरे कार्यकाल में 50 विदेश दौरे के दौरान 1,350 करोड़ रुपये खर्च हुए थे.
राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने साल 2009 से लेकर 2018 तक भारतीय प्रधानमंत्री के विदेश दौरों के सिलसिलेवार खर्च की जानकारी दी. सूत्रों के अनुसार मोदी की विदेश यात्राएं छोटी रही हैं. मोदी की विदेश यात्रा पर सबसे ज्यादा खर्च 9 अप्रैल से 17 अप्रैल, 2015 तक की 9 दिवसीय फ्रांस, जर्मनी और कनाडा की यात्रा पर आया था. इस यात्रा पर लिए गए चार्टर्ड फ्लाइट पर 31.25 करोड़ रुपये खर्च हुए थे. इसके बाद 11 नवंबर से 20 नवंबर, 2014 के बीच म्यामांर, ऑस्ट्रेलिया और फीजी की यात्रा पर 22.58 करोड़ खर्च आया जो उनकी दूसरी सबसे महंगी विदेश यात्रा रही. जबकि मनमोहन सिंह की सबसे महंगी विदेश यात्रा 16 जून से 23 जून, 2012 के दौरान मैक्सिको और ब्राजील की यात्रा थी जिसमें 26.94 करोड़ खर्च हुए. इस दौरे के दौरान जी-20 और रियो सम्मेलन में हिस्सा लिया था.
मोदी ने अपनी विदेश यात्राओं के दौरान 480 समझौतों और एमओयू पर हस्ताक्षर किए. विदेश यात्राओं के लिहाज से मोदी के लिए 2015-16 का साल बेहद व्यस्त रहा क्योंकि उन्होंने उस साल अमेरिका, इंग्लैंड, जर्मनी और कनाडा सहित 24 देशों की यात्राएं की. अपने कार्यकाल के पहले साल में 13 देशों की यात्राएं की. 2017-18 में 19 देशों की यात्राएं की, जबकि 2016-17 और 2018-19 (अब तक) उन्होंने 18 देशों की यात्रा की.
देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 1947 से 1962 के बीच 68 देशों की यात्राएं की थी. उनकी पहली विदेश यात्रा 1949 में हुई जब वह 11 से 15 अक्टूबर तक अमेरिका के दौरे पर गए. इंदिरा गांधी ने अपने 15 साल के कार्यकाल के दौरान 119 देशों की यात्राएं की. जबकि पहले विदेश मंत्री और फिर प्रधानमंत्री बनने वाले अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने कार्यकाल के दौरान 48 देशों की यात्राएं की.
राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह ने कहा कि 2014 में विदेशी प्रत्यक्ष निवेश 30,930.5 मिलियन अमरीकी डॉलर से बढ़कर 2017 में 43478.27 मिलियन अमरीकी डॉलर हो गया.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *