पटना विवि छात्र संघ चुनाव के चुनाव परिणाम में मुख्य पांच पदों में से दो पद छात्र जदयू व तीन अभाविप के खाते में गयी. इस बार मुख्य रूप से छात्र जदयू और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (अभाविप) के बीच मुकाबला हुआ. चुनाव में कुल 57.9% छात्र-छात्राओं ने मतदान किया.
छात्र जदयू के मोहित प्रकाश ने अध्यक्ष पद पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के अभिनव को करीब 1200 मतों से मात दिया, कोषाध्यक्ष पद पर भी छात्र जदयू के कुमार सत्यम चुने गए. ABVP के खाते में तीन पद आए, अंजना सिंह ने उपाध्यक्ष पद पर छात्र जदयू के आशीष पुष्कर को 400 वोटों से हराया. मणिकांत मणि ने 300 मतों के अंतर से महासचिव का पद और संयुक्त सचिव के पद पर ABVP के राजा रवि ने जीत हासिल की.
साइंस कॉलेज में पटना छात्रसंघ चुनाव की मतगणना देर से शुरू होने से भड़के छात्रों ने देर रात जमकर हंगामा व पथराव किया. मीडियाकर्मियों को रोके जाने से भी छात्र नाराज थे. पथराव के बाद पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया, उसके बाद उग्र छात्रों को पुलिस ने साइंस कॉलेज गेट के पास से खदेड़ने के लिए लाठीचार्ज किया. लाठीचार्ज होने से भगदड़ मच गई, छात्र गिरते-पड़ते भागने लगे. छात्रों ने पटना विवि वीसी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.
छात्रों ने वीसी पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि जब वोटिंग 60 फीसदी नहीं हुई और शाम चार बजे से काउंटिंग शुरू होनी थी, पर ऐसा नहीं हुआ. आखिर काउंटिंग में देरी क्यों की गई? इसमें देर करने के पीछे विवि प्रशासन की क्या मंशा है? छात्रों ने कहा कि एक राजनीतक दल के राष्ट्रीय पदाधिकारी के दबाव में विवि प्रशासन काम कर रहा है. काउंटिंग के दौरान अनहोनी की आशंका के मद्देनजर एएसपी ऑपरेशन अनिल कुमार सिंह के अलावा चार डीएसपी के साथ ही पीरबहोर सहित आधा दर्जन थानों की पुलिस तैनात थे. गेट के बाहर वज्र वाहन व वाटर केनन भी रखा गया था.


छात्रों का आरोप था कि विवि प्रशासन ने जानबूझकर मतगणना कराने में देरी की और गड़बड़ी करने के लिए मीडियाकर्मियों को अंदर जाने से रोका गया. रात एक बजे तक वोटों के बंडल बनाने का काम ही चल रहा था. सेंट्रल पैनल के पदों का चुनाव परिणाम देर रात 3 बजे घोषित किया गया.
पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव के लिए दोपहर दो बजे तक वोटिंग हुयी जिसमें 57.9 फीसदी छात्र-छात्राओं ने मतदान किया. सुबह से ही मतदान में छात्राओं की बड़ी भागीदारी दिखी, छात्राएं सुबह 9 बजे से ही कतार में खड़ी हो गईं थी. कुल 29 पदों के लिए हुए चुनाव में छह पदों पर निर्विरोध निर्वाचन हुआ और शेष 23 पदों के लिए मतदान हुआ. सेंट्रल पैनल अध्यक्ष व महासचिव पद के लिए के लिए नौ-नौ उम्मीदवार, उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव के लिए 8-8 प्रत्याशी सहित कुल 108 उम्मीदवार मैदान में थे. कुल 20,330 मतदाताओं के लिए कुल 46 बूथ बनाए गए थे.
सर्वाधिक 84% मतदान कॉलेज ऑफ आर्ट एंड क्राफ्ट में तथा सबसे कम 39.6% मतदान फैकल्टी ऑफ ह्यूमैनिटिज में हुआ. विमेंस ट्रेनिंग कॉलेज में 80%, पटना ट्रेनिंग कॉलेज में 66%, पटना साइंस कॉलेज में 65%, मगध महिला कॉलेज में 62%, पटना कॉलेज में 60%, पटना लॉ कॉलेज में 54.7%, बिहार नेशनल कॉलेज में 53.39%, फैकल्टी ऑफ लॉ, कॉमर्स एंड एजुकेशन में 50.99%, फैकल्टी ऑफ साइंस में 50%, वाणिज्य महाविद्यालय में 49%, फैकल्टी ऑफ सोशल साइंस में 43.63% तथा पटना विमेंस कॉलेज में 47% मतदान हुआ.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *