भारतीय बैंकों से कर्ज लेकर देश छोड़कर भागने वाले शराब कारोबारी विजय माल्या बैंकों के सारे कर्ज चुकता करने को तैयार हैं. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि- “वह भारतीय बैकों के सारे कर्ज चुकता करने को तैयार हैं, मगर वह ब्याज नहीं दे सकते हैं.”
माल्या ने एक साथ तीन ट्वीट करते हुए बैंकों के 100 फीसदी मूलधन वापस करने का प्रस्ताव पेश किया. साथ ही उन्होंने कहा है कि उनके साथ भारतीय मीडिया और राजनेताओं ने पक्षपात किया है. माल्या पर करीब 9000 करोड़ रुपये का बैंक कर्ज है.
माल्या ने ट्वीट कर कहा कि- ‘पिछले तीन दशकों तक सबसे बड़े शराब समूह किंगफिशर ने भारत में कारोबार किया है. इस दौरान कई राज्‍यों की मदद भी की है. किंगफिशर एयरलाइंस भी सरकार को भरपूर भुगतान कर रही थी. लेकिन शानदार एयरलाइंस का दुखद अंत हुआ, मगर फिर भी मैं बैंकों के बकाये का भुगतान करना चाहता हूँ, जिससे उन्‍हें कोई घाटा न हो. कृपया इस ऑफर को स्‍वीकार करें.’ “किंगफिशर एयरलाइंस ईंधन की ऊंची दरों का शिकार हुई. किंगफिशर एक शानदार एयरलाइंस थी, जिसने क्रूड ऑयल की 140 डॉलर प्रति बैरल के उच्‍चतम कीमत का सामना किया. घाटा बढ़ता गया, बैंकों का पैसा इसी में जाता रहा. मैंने बैंकों को 100 प्रतिशत मूलधन वापसी का ऑफर दिया है, कृपया स्‍वीकार करें.
उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा कि- ‘राजनेता और मीडिया लगातार चिल्लाकर मुझे बैंकों का पैसा उड़ा लेने वाला डिफॉल्‍टर घोषित कर रहे हैं. मगर यह सब झूठ है. मेरे साथ हमेशा से ही पक्षपात किया गया है, मेरे साथ उचित व्यवहार क्यों नहीं किया जाता है? मैंने कर्नाटक हाईकोर्ट में व्यापक निपटान का प्रस्ताव दिया था, इसे सबने अनसुना कर दिया. बेहद दुखद.’
भारत ने माल्या को कई बैंकों से लिए गए करीब 9,000 करोड़ रुपये का कर्ज ना चुकाने के लिए डिफॉल्टर घोषित करते हुए भगोड़ा घोषित कर रखा है. विजय माल्या के प्रत्यर्पण मामले में लंदन के वेस्टमिंस्टर कोर्ट में 12 सितंबर को आखिरी सुनवाई हुई थी, अदालत 10 दिसंबर को फैसला सुना सकती है. उधर अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले के आरोपी क्रिश्चियन मिशेल के प्रत्यर्पण के बाद माल्या ने ट्विट किया है. माल्या मार्च 2016 से ब्रिटेन में हैं और उन्हें 18 अप्रैल को प्रत्यर्पण वारंट पर स्कॉटलैंड यार्ड ने गिरफ्तार किया था. सीबीआई इस मामले की जांच कर रही है.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *