अर्जेंटीना में चल रहे जी-20 सम्मलेन में भारत को इस अंतरराष्ट्रीय मंच पर एक बड़ी कूटनीतिक कामयाबी मिली. भारत जब अपना 75वां स्वतंत्रता दिवस माना रहा होगा तब 2022 में जी-20 सम्मेलन यहाँ होगा.
मोदी सरकार ने 2022 में न्यू इंडिया का नारा दिया है, ऐसे में जी-20 बैठक की मेजबानी मिलना मोदी सरकार की एक बड़ी सफलता मानी जा रही है. जी-20 सम्मेलन की अगली मेजबानी इटली को करनी थी. इस समिट में बोलते हुए PM मोदी ने बताया कि उन्होंने इटली से गुजारिश की थी कि वह 2021 में इस सम्मेलन की मेजबानी न करे ताकि 2022 का मौका भारत को मिले. PM मोदी ने इटली का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि मुझे ख़ुशी है कि दूसरे देश भी इसपर राजी हो गए. PM ने इसके लिए आभार व्यक्त करते हुए दुनियाभर की लीडरशिप को 2022 में भारत आने के लिए आमंत्रित किया.
PM ने ट्वीट किया कि- “वर्ष 2022 में भारत की आजादी के 75 साल पूरे हो रहे हैं. उस विशेष वर्ष में भारत जी-20 शिखर सम्मेलन में विश्व का स्वागत करने की आशा करता है. विश्व की सबसे तेजी से उभरती सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत में आइए. भारत के समृद्ध इतिहास और विविधता को जानिए और भारत के गर्मजोशी भरे आतिथ्य का अनुभव लीजिए.”
जी-20 विश्व की 20 प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंक के गवर्नर्स का एक समूह है. वैश्विक आर्थिक और कूटनीतिक मामलों के लिए जी-20 काफी अहम संस्था है. जिसमें भारत, अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस, जर्मनी, इटली समेत 19 देश और यूरोपीय संघ शामिल हैं.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *