प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संसदीय निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी में 2500 करोड़ की परियोजनाओं के शिलान्यास और लोकापर्ण करते हुए कहा कि काशी, पूर्वांचल, पूर्वी भारत और पूरे भारतवर्ष के लिए आज का दिन ऐतिहासिक है क्योंकि आज देश विकास के उस कार्य का गवाह बना है, जो दशकों पहले हो जाना चाहिए था. वाराणसी और देश इस बात का गवाह बना है कि नेक्सट जेनरेशन इंफ्रास्ट्रक्चर की अवधारणा, कैसे ट्रांसपोर्ट के तौर-तरीकों का कायाकल्प करने जा रही है. संकल्प लेकर जब कार्य समय पर सिद्ध किए जाते हैं, तो उसकी तस्वीर कितनी भव्य और कितनी गौरवमयी होती है.
मोदी ने कहा कि मेरा सौभाग्य रहा कि दीपावली के दिन बाबा केदारनाथ के दर्शन करने का अवसर मिला और अब बाबा विश्वनाथ की नगरी में, आपसे आशीर्वाद लेने का मौका मिला है. उत्तराखंड में, मैं माता भगीरथी की पूजा करके धन्य हुआ, तो आज यहां अब से कुछ देर पहले मां गंगा के दर्शन किए. मोदी सबसे पहले रामनगर बंदरगाह पहुंचे. वहां उन्‍होंंने रामनगर-हल्दिया जलमार्ग का उद्घाटन करने के साथ ही वाराणसी को पहला कंटेनर डिपो भी सौंपा.
जलमार्ग का उद्घाटन करने के बाद कहा कि कुछ देर पहले नदी मार्ग से पहुंचे देश के पहले कंटेनरवेसल का स्वागत कर मैं प्रफल्लित हूं कि देश ने जो सपना देखा था वो आज साकार हुआ है. ये कंटेनर वेसल चलने का मतलब है कि पूर्वी उत्तर प्रदेश, पूर्वांचल और पूर्वी भारत जलमार्ग से अब बंगाल की खाड़ी से जुड़ गया है. इस जलमार्ग से समय और पैसा बचेगा, सड़क पर भीड़ भी कम होगी, ईंधन का खर्च भी कम होगा और गाड़ियों से होने वाले प्रदूषण से भी राहत मिलेगी. यहाँ बना मल्टीमॉडल टर्मिनल देश का पहला नदी पर बनने वाला टर्मिनल है, जो 33 हेक्टयर में करीब 206.84 करोड़ों रुपए की लागत से बना है.
PM ने बाबतपुर हवाई अड्डे से शहर को जोड़ने वाली सड़क, रिंग रोड, कनेक्टिविटी से जुड़े प्रोजेक्ट, बिजली के तारों को अंडरग्राउंड करने से जुड़ी परियोजना, मां गंगा को प्रदूषण मुक्त करने के प्रयासों को बल देने वाली अनेक परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास करते हुए कहा कि 800 करोड़ रुपए की लागत से बाबतपुर एयरपोर्ट को शहर से जोड़ने वाली सड़क ना सिर्फ चौड़ी हो गई है, बल्कि देश-विदेश के पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करने लगी है. इस सड़क से काशी वासियों का, पर्यटकों का समय तो बचेगा ही, जौनपुर, सुल्तानपुर और लखनऊ तक की यात्रा भी सुगम हो जाएगी.


PM ने आज एनएच-56 के बाबतपुर से वाराणसी के 4 लेंन चौड़ीकरण 812.59 करोड़. वाराणसी रिंग रोड फेज- वन 759.36 करोड़, आई डब्लू टी मल्टी मॉडल टर्मिनल- 208 करोड़, सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट दीनापुर- 186.48 करोड़, सीवरेज पम्पिंग स्टेशन- 34.01 करोड़, इंटरसेप्शन सीवर और पम्पिंग कार्य- 155.87 करोड़, शहरी विद्युत सुधार कार्य (पुरानी काशी के अतिरिक्त IPDS)- 139.41 करोड़, तेवर ग्राम पेयजल- 2.79.01 करोड़, कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय देईपुर (सेवापुरी) में बालिका छात्रावास- 1.70 करोड़ तथा परमानंदपुर (शिवपुर) में 1.54 करोड़ की लागत वाले आश्रय योजना को लोकार्पित किया.
साथ ही इंटरसेप्शन डायवर्जन ऑफ ड्रेन एंड ट्रीटमेंट वर्क एट रामनगर-वाराणसी- 72.01 करोड़, किला कटरिया मार्ग पर IRQP कार्य- 2.37 करोड़, पूर्व एनएच-7 पड़ाव रामनगर (टेंगरा मोड़) मार्ग पर IRQP कार्य-3.17 करोड़, लहरतारा BHU मार्ग पर रेज्ड फुटपाथ आदि का निर्माण-20.99 करोड़, रामनगर (डोमरी) वाराणसी में हेलीपैर्ट निर्माण-4.95 करोड़, वाराणसी में ड्राइवर प्रशिक्षण केंद्र (DTI) की स्थापना- 4.45 करोड़ एवं वाराणसी सर्किट हाउस में प्रथम तल पर प्रस्तावित मीटिंग हॉल के निर्माण व सुंदरीकरण- 3.25 करोड़ वाली परियोजनाओं का शिलान्यास किया. PM के साथ UP के CM योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल राम नाईक, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री डॉ सत्यपाल सिंह, आदि भी मौजूद थे.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *