उत्तर प्रदेश में स्थानों के नाम को बदलने का सिलसिला लगातार जारी है. इसी कड़ी में एक कदम और आगे बढ़ाते हुए प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को ऐलान किया कि जल्द ही इलाहाबाद का नाम प्रयागराज हो जाएगा.
कुंभ मेले के आयोजन को लेकर हुई बैठक के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संगम नगरी इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज करने का ऐलान किया. उन्होंने कहा कि संतों ने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज रखने का सुझाव दिया था. जिसे प्रदेश सरकार ने हरी झंडी दे दी है और सूबे के राज्यपाल राम नाईक ने भी इस प्रस्ताव पर सहमति जता दी है.
इलाहाबाद के सर्किट हाउस में सीएम योगी ने कहा, ‘कुंभ मेले की तैयारी के परिपेक्ष में बुलाई गई बैठक में कुछ संतों और गणमान्य व्यक्तियों ने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज रखने का प्रस्ताव दिया. उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने भी इसे मंजूरी देने पर सहमति जता दी है.’
उन्होंने कहा, ‘उत्तर प्रदेश सरकार ने भी इस प्रस्ताव को मान लिया है और जल्द ही इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया जाएगा.’ योगी ने कहा, ‘गंगा और यमुना दो पवित्र नदियों के संगम का स्थल होने के नाते इलाहाबाद में सभी प्रयागों का राज है, इसलिए इलाहाबाद को प्रयागराज भी कहते हैं. अगर सब की सहमति होगी तो इलाहाबाद को प्रयागराज के रूप में ही जाना जाएगा.’
राज्य सरकार के सूत्रों का कहना है कि प्रदेश कैबिनेट आगामी बैठक में जिले के नाम को बदलने की मंजूरी दे सकता है. इस दौरान मुख्यमंत्री ने कुंभ मेले पर बात करते हुए कहा कि मेले से जुड़ी सभी तैयारियों को दिसंबर तक पूरा कर लिया जाएगा.
उन्होंने बताया कि इस कुंभ मेले की पहुंच वैश्विक होगी, जिसमें भारत में मौजूद दूतावास वाले सभी देशों के प्रतिनिधि भाग लेंगे. देश भर के 6 लाख से अधिक गांवों के लोग भी कुंभ मेले के लिए योगदान दे रहे हैं. केंद्र सरकार से भी पूर्ण सहायता मिल रही है.
योगी आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि लोगों की सुविधा के लिए कुंभ परिसर में मिल्क सेंटर, पानी एटीएम, टैंकर, हैंड पंप, एटीएम मशीन, मोबाइल टावर, बैंक शाखाएं और 34 मोबाइल टावर भी लगेंगे.

loading…


Loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *