प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंदौर के माणिकबाग स्थित सैफी मस्जिद में बोहरा समाज के प्रवचन (वाअज) में शिरकत करते हुए कहा कि शांति-सद्भाव, सत्याग्रह और राष्ट्रभक्ति के प्रति बोहरा समाज की भूमिका महत्वपूर्ण रही है. सैयदना साहब ने समाज को जीने की सीख दी और आज बोहरा समाज दुनिया को भारत की इस ताकत से परिचित करा रहा है.
PM ने कहा कि आप सभी के बीच आना मुझे एक नया अनुभव देता है. मुझे बताया गया है कि टेक्नोलॉजी के जरिए दुनिया के अलग-अलग सेंटरों में लोग जुड़े हुए हैं, उन सभी को मैं नमन करता हूँ. इमाम हुसैन ने अन्याय और अहंकार के खिलाफ आवाज बुलंद की थी, उनके पवित्र संदेश को आपने दिल में उतारा. हमारे समाज की यही शक्ति है जो दूसरे देशों से अलग पहचान बनाती है. मुझे प्रसन्नता है कि बोहरा समाज का एक-एक जन इस मिशन से जुटा है।


PM ने कहा कि अपने देश, मातृभूमि से प्रेम की सीख सैयदना साहब देते रहे हैं. सैयदना साहब ने गांधीजी के साथ मिलकर मूल्यों की स्थापना में अहम योगदान दिया था. दोनों की मुलाकात ट्रेन में कहीं हुई थी, इसके बाद दोनों के बीच संपर्क बना रहा. दोनों के बीच विचार-विमर्श और संवाद होता रहा. दांडी यात्रा के दौरान गांधीजी सैयदना साहब के घर सैफी विला में ठहरे थे. गांधीजी की मित्रता और मूल्यों के प्रति सम्मान व्यक्त करते हुए सैयदना साहब ने सैफी विला देश को दान कर दिया था.
बोहरा समाज के दो लाख लोगों ने श्वेतांबर जैन समाज के आग्रह पर गुरुवार को शाकाहार भोजन किया. ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी धर्म के आग्रह को दूसरे धर्म के प्रमुख गुरु ने स्वीकार किया. बोहरा समाज के 35 हजार लोग इंदौर, साढ़े चार लाख लोग मध्यप्रदेश और 20 लाख देशभर में रहते हैं. इसी साल मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में विधानसभा चुनाव हैं. इन चुनावों की वजह से प्रधानमंत्री के इस दौरे को परोक्ष रूप से राजनीतिक फायदे और चुनावी कैंपेन से जोड़कर देखा जा रहा है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *