कांग्रेस की मुंबई इकाई के प्रमुख संजय निरुपम अपने बयानों को लेकर एक बार फिर विवादों में घिरते दिख रहे हैं. इस बार वह पीएम मोदी को लेकर दिए अपने एक बयान को लेकर विवादों में हैं. दरअसल, उन्होंने महाराष्ट्र सरकार के उस फैसले का, जिसमें राज्य के स्कूल में प्रधानमंत्री पर बनी फिल्म दिखाने की बात कही की है, विरोध करते हुए पीएम मोदी को अनपढ़ बता दिया और कहा कि पीएम मोदी से स्कूल के बच्चे कुछ नहीं सीख सकते . संजय निरुपम के इस बयान पर भाजपा नेताओं ने कड़ा विरोध जताया है. भाजपा की महाराष्ट्र इकाई की प्रवक्ता शाइना एनसी ने तो संजय निरुपम को ‘‘मानसिक तौर पर विक्षिप्त’’ तक करार दे दिया.
गौरतलब है कि कांग्रेस नेता निरुपम ने एक समाचार चैनल से कहा था कि जबरन फिल्म दिखाने का फैसला गलत है. बच्चों को राजनीति से दूर रखना चाहिए. मोदी जैसे अशिक्षित और निरक्षर व्यक्ति पर बनी फिल्म देखकर बच्चे क्या सीखेंगे?. इतना ही नहीं संजय निरुपम ने यह भी कहा था कि बच्चों और लोगों को तो यह भी नहीं पता कि प्रधानमंत्री के पास कितनी डिग्रियां हैं. बाद में अपने बयान के बारे में पूछे जाने पर निरुपम ने पत्रकारों से कहा कि सत्ताधारी पार्टी को हर शब्द पर आपत्ति करने की कोई जरूरत नहीं है और लोकतंत्र में प्रधानमंत्री भगवान नहीं होता.
ध्यान हो कि यह कोई पहला मौका नहीं है जब संजय निरुपम ने कोई विवादित बयान दिया हो. इससे पहले कर्नाटक में बीजेपी की सरकार गिरने और कांग्रेस-जेडीएस की जीत के तुरंत बाद ही कांग्रेसी नेता संजय निरुपम ने अपने विवादित बयान से सियासी घमासान को और तेज कर दिया था. दरअसल, मुंबई कांग्रेस के प्रमुख संजय निरुपम ने बीएस येदियुरप्पा के इस्तीफे के तुरंत बाद कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला की तुलना कुत्ते से की थी, जिसके बाद उनकी सोशल मीडिया पर जमकर आलोचना होने लगी थी. संयज निरुपम ने समाचार एजेंसी एएनआई को दिये एक इंटरव्यू में कहा था कि, ‘ देश में वफादारी का एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है वजुभाई वाला जी ने.
शायद हिंदुस्तान का हर आदमी अपने कुत्ते का नाम वजुभाई वाला ही रखेगा, क्योंकि इससे ज्यादा वफादार तो कोई हो ही नहीं सकता. ‘हालांकि, संजय ने एक ट्वीट भी किया था, जिसे बाद में उन्हें हटाना पड़ा. उस ट्वीट में भी उन्होंने कहा था कि वजुवाला भाजपा के वफादार कुत्ते की तरह हैं. मगर बढ़ती आलोचना को देखते हुए कांग्रेस नेता ने बाद में ट्विटर पर माफी मांगी और उसे हटा लिया.

loading…


Loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *