18वें एशियाई खेलों के 14वें दिन भारत के मुक्केबाज अमित पंघल ने पुरुषों के 49 किलोग्राम भारवर्ग और ब्रिज में भारत के प्रणब- शिबनाथ की जोड़ी ने गोल्ड हासिल किया. महिला स्क्वैश टीम ने सिल्वर और भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने पाकिस्तान को हराकर ब्रॉन्ज जीता. भारत के खाते में 15 गोल्ड, 24 सिल्वर और 30 ब्रॉन्ज के साथ 69 पदक हैं.
22 साल के भारतीय बॉक्सर अमित पंघल ने उज्बेकिस्तान के हसनबॉय दस्तमातोव को हराकर लाइट फ्लाइवेट 49 किलोग्राम का गोल्ड मेडल जीत लिया. इस मुश्किल मुकाबले में भारतीय बॉक्सर ने विरोधी की छवि को दरकिनार करते हुए उनपर लगातार हमले करते रहे. दस्तामोव 2016 के रियो ओलिंपिक के चैंपियन थे और उन्हें वहाँ सर्वश्रेष्ठ बॉक्सर करार दिया गया था. हैमबर्ग वर्ल्ड चैंपियनशिप्स में पंघल को पिछले वर्ष दस्मातोव से करीबी मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा था
पहले राउंड में दोनों मुक्केबाजों के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली, हालांकि दूसरे राउंड में पंघल ने काफी तेजी दिखाई. वह लगातार विरोधी बॉक्सर पर हमले करते रहे और इस राउंड में पंघल ने दस्मातोव को बैकफुट पर धकेल दिया. दस्मातोव के मुक्के ढ़ंग से लैंड नहीं हो रहे थे जबकि भारतीय मुक्केबाज सटीक पंच लगाते रहे.
भारत के प्रणब बर्धन (60 वर्ष) और शिबनाथ सरकार (56 वर्ष) की जोड़ी ने पुरुषों के ब्रिज डब्ल्स इवेंट में 384 अंक हासिल करते हुए स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया. भारत के ही सुमित मुखर्जी और देबाब्रत मजूमदार 333 अंक लेकर नौवें स्थान पर और सुभाष गुप्ता सपन देसाई 306 अंकों के साथ 12वें स्थान पर रहे.


भारतीय महिला स्क्वॉश टीम को टीम इवेंट में हॉन्गकॉन्ग से हारकर रजत पदक से संतोष करना पड़ा. हॉन्गकॉन्ग ने शनिवार को हुए फाइनल मुकाबले में भारत को 2-0 से शिकस्त दी. फाइनल में हॉन्गकॉन्ग की टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए फाइनल मुकाबले में भारत को 2-0 से शिकस्त दिया. भारतीय टीम ने सेमीफाइनल में मलेशिया को 2-1 से शिकस्त दी थी.
पेनल्टी शूटआउट में पहुंचे रोमांचक मैच में मलेशिया से सेमीफाइनल हारने के बाद भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने ब्रॉन्ज मेडल के लिए हुए मुकाबले में पाकिस्तान को 2-1 से हरा दिया. इस दौरान भारत ने गोल पर 10 शॉट्स लिए जिसमें दो को गोल में बदला वहीं पाकिस्तान ने नौ शॉट्स में एक को गोल में बदला. भारत को जहां मात्र दो पेनल्टी कॉर्नर मिलें, वहीं पाकिस्तान ने चार पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया.
भारत ने शुरू से ही अच्छे तालमेल का परिचय दिया. ललित ने मौका मिलते ही पास दिया और आकाशदीप ने पास को ट्रैप कर गोलकीपर के पॉजीशन लेने से पहले ही शॉट खेला और चौथे मिनट में ही भारत को 1-0 की लीड दिला दी. भारतीय टीम पाकिस्तानी सर्कल के अदंर लगातार बॉल को अपने पॉजेशन में रखे रहे और भारतीय डिफेंस भी डी से आगे आकर गेंद टेकल करते रहे. दूसरे क्वार्टर में पाकिस्तान लगातार अटैक करता रहा और मिडफील्ड में अच्छा प्रदर्शन करते हुए पाकिस्तान अटैक के मौके खोजता रहा.
भारत लगातार दबाव में रहा, भारतीय डिफेंस का आत्मविश्वास हिलता नजर आया पर हाफ टाइम तक भारत अपनी लीड 1-0 बनाये रखने में सफल रहा. दोनों टीमों ने पहले हाफ में छह-छह शॉट्स लिए और भारत एक गोल दाग पाया. इस बीच पाकिस्तान को दो पेनल्टी कॉर्नर मिले जबकि भारत एक भी नहीं.
50वें मिनट में भारत को पहला पेनल्टी कॉर्नर मिला और मनप्रीत ने बिना कोई गलती किए गोल दाग भारत को 2-0 से आगे कर दिया. तुरंत एक एरियल शॉट से पाकिस्तान ने भारतीय डिफेंस को पार किया, गोल के पास डिफेंडर भी नहीं था और इसका फायदा उठाते हुए अतीक मोहम्मद ने पाकिस्तान के लिए पहला गोल दाग दिया. हाँलाकि 53वें मिनट में भारत को दूसरा पेनल्टी कॉर्नर मिला लेकिन रूपिंदर पाल सिंह चूक गए.
कुल मिलाकर करोड़ों भारतीय खेलप्रेमी इस बात पर फख्र कर सकते हैं कि शुरुआती दिनों में उम्मीदों पर खरा न उतरने और कुछ बड़े चेहरों के निराश करने के बावजूद भारतीय दल इंडोनेशिया से अपने सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ भारत वापस लौटेगा. भारत के खाते में 15 गोल्ड, 24 सिल्वर और 30 ब्रॉन्ज मेडल के साथ पदकों की संख्या 69 हो गई है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *