भारत के बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन ने 22 जुलाई को बैडमिंटन एशिया जूनियर चैम्पियनशिप में थाईलैंड के खिलाड़ी कुनलावुत वितिदसार्न को 46 मिनटों में 21-19, 21-18 से मात देकर स्वर्ण पदक जीता.
अंडर-19 का फाइनल मुकाबला बेहद दिलचस्प रहा. के फाइनल में वितिदसार्न को 46 मिनटों के भीतर सीधे गेमों में 21-19, 21-18 से मात दी. एक वक्त दोनों खिलाड़ी 14-14 से बराबरी पर चल रहे थे, दोनों खिलाड़ियों के बीच कांटे की टक्कर बनी रही, लेकिन अंत समय में भारतीय शटलर लक्ष्य ने थाईलैंड के वितिदसार्न पर बढ़त बनाकर गेम अपने नाम किया.
लक्ष्य एशिया जूनियर चैम्पियनशिप में स्वर्ण जीतने वाले तीसरे भारतीय बन गए हैं. लक्ष्य से पहले इस चैम्पियनशिप में 1965 में गौतम ठक्कर और 2012 में पी.वी. सिंधु ने सोना जीता था. सेमीफाइनल में लक्ष्य का मुकाबला इंडोनेशिया के इखसान लियोनार्डो इमानुएल रुमबे से था और उस मैच में लक्ष्य ने इखसान को 21-7, 21-14 से हराया था.


लक्ष्य सेन के गोल्ड जीतने के बाद भारतीय बैडमिंटन संघ (BAI) ने युवा खिलाड़ी लक्ष्य सेन को दस लाख रुपये की नकद इनाम देने की घोषणा की है. लक्ष्य ने पिछले साल इस टूर्नामेंट में कांस्य पदक जीता था. BAI के अध्यक्ष हेमंत बिस्व सरमा ने लक्ष्य की उपलब्धि की तारीफ करते हुए कहा कि ‘‘ लक्ष्य ने देश को गौरवान्वित किया है. हम युवाओं पर निवेश कर रहे हैं और उसका नतीजा देख कर काफी खुश हैं.’’ महासचिव अजय सिंघानिया ने इस खिलाड़ी की तारीफ करते हुए कहा कि- यह पूरे BAI परिवार और अधिकारियों के लिए जश्न मनाने का मौका है. एशिया में पदक जीतना हमेशा अच्छा होता है, लेकिन स्वर्ण जीतना शानदार है. हमें इस युवा खिलाड़ी पर फख्र है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *