बीते लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सभी सीटों पर जीत का परचम लहराने वाली भाजपा इस बार बड़े बदलाव कर सकती है। कुछ सांसदों के टिकट कट सकते हैं तो कुछ के चुनाव क्षेत्र बदल सकते हैं। पार्टी के संकेतों को मानें तो दो से तीन नए चेहरों को टिकट देने की तैयारी है। इनमें एक नाम पूर्व टेस्ट क्रिकेटर गौतम गंभीर का भी है।.
दिल्ली की राजनीति हर चुनाव में अलग तरह के नतीजे देती है। बीते लोकसभा चुनाव में जहां भाजपा ने सभी सातों सीटों पर कब्जा किया था, वहीं उसके बाद हुए विधानसभा चुनाव में उसे 70 में से महज तीन सीटें मिली थीं। कांग्रेस का तो खाता भी नहीं खुला था। इसके बाद नगर निगम चुनावों में फिर से बाजी भाजपा के हाथ रही।
दरअसल, भाजपा ने नगर निगम चुनाव में मौजूदा अधिकांश पार्षदों को बदल दिया था, जिसका उसे लाभ मिला था। अब लोकसभा चुनावों के लिए भाजपा नेतृत्व नई रणनीति बना रहा है, जिसमें कुछ सीटों पर नए चेहरे लाने की तैयारी है। .
उत्तर पूर्वी दिल्ली से सांसद व प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी के फिर से इसी सीट से उम्मीदवार बनने की संभावना है, जबकि पूर्वी दिल्ली से सांसद महेश गिरी की सीट इस बार खतरे में मानी जा रही है। सूत्रों का कहना है कि इस क्षेत्र की कृष्णा नगर सीट से कई बार विधायक रहे डॉ. हर्षवर्धन को उम्मीदवार बनाया जा सकता है। दक्षिण दिल्ली में मौजूदा सांसद रमेश बिधूड़ी का पलड़ा भारी है, जबकि पश्चिम दिल्ली में प्रवेश वर्मा फिर से टिकट की तैयारी में हैं। हालांकि, इस सीट पर पार्टी बदलाव पर भी विचार कर रही है।
सूत्रों के अनुसार सबसे प्रतिष्ठापूर्ण मानी जाने वाली नई दिल्ली सीट से मौजूदा सांसद मीनाक्षी लेखी के साथ चर्चा में पूर्व टेस्ट क्रिकेटर गौतम गंभीर का नाम भी है। यहां पर दिल्ली प्रदेश के कुछ पदाधिकारी भी दावा पेश कर रहे हैं। चांदनी चौक से सांसद व केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन की भी सीट बदले जाने की चर्चा है। हर्षवर्धन को नई जिम्मेदारी देने के साथ पूर्वी दिल्ली सीट दिए जाने की चर्चा है। ऐसे में चांदनी चौक से राज्यसभा सांसद व मंत्री विजय गोयल का नाम भी चर्चा में है। पार्टी यहां से किसी नए चेहरे को भी ला सकती है।
इससे पहले विपक्ष ने कहा था कि पर्रिकर को उनकी बीमारियों के कारण उनके कर्तव्यों से मुक्त कर दिया जाना चाहिए. हालांकि, गोवा के बिजली मंत्री निलेश कैबरल ने गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि पर्रिकर आगामी चुनाव के लिए गोवा भाजपा के अभियान के लिए मार्गदर्शक बने रहेंगे.
बता दें कि कई मौकों पर पर्रिकर मेडिकल पैराफर्नेलिया पहने सार्वजनिक रूप से सामने आए हैं.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *