गोवा में लंबे वक्त से जारी राजनीतिक उथल-पुथल के बीच कांग्रेस ने शनिवार को सरकार बनाने का दावा पेश किया. कांग्रेस ने राज्यपाल मृदुला सिन्हा को पत्र लिखकर बीजेपी के नेतृत्व वाली राज्य सरकार को भंग करने की मांग की है. कांग्रेस ने दावा किया है कि विधानसभा में बीजेपी के पास बहुमत नहीं है और कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी है. इसलिए कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका दिया जाना चाहिए.
इस पत्र में कांग्रेस ने यह भी लिखा है कि गोवा में राष्ट्रपति शासन लागू करने की कोई भी कोशिश गैर-कानूनी होगी और कांग्रेस उसे कोर्ट में चुनौती देगी.
विपक्ष के नेता चंद्रकांत कवलेकर की तरफ से भेजे गए इस पत्र में लिखा है, ‘मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व वाली सरकार जनता का विश्वास खो चुकी है, साथ ही साथ वह विधानसभा में बहुमत खो चुकी है.’ उन्होंने लिखा कि उन्हें विश्वास है कि राज्यपाल संविधान के नियमों का पालन करेंगी. बता दें कि गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर लंबे वक्त से बीमार चल रहे हैं. पैनक्रियाटिक कैंसर से पीड़ित 61 वर्षीय पर्रिकर को 31 जनवरी को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती कराया गया था. हाल ही में बीमार मुख्यमंत्री ने 3 मार्च को गोवा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (जीएमसीएच) में चेक-अप कराया था.
फरवरी में पर्रिकर का जीएमसीएच में एक ऑपरेशन भी हुआ था. शनिवार को मुख्यमंत्री कार्यालय ने पर्रिकर के स्वास्थ्य को लेकर जारी अफवाहों के मद्देनजर ट्वीट किया, ‘मीडिया में कुछ रिपोर्टों के संबंध में, यह स्पष्ट किया जाता है कि मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की हालत स्थिर है.’


इससे पहले विपक्ष ने कहा था कि पर्रिकर को उनकी बीमारियों के कारण उनके कर्तव्यों से मुक्त कर दिया जाना चाहिए. हालांकि, गोवा के बिजली मंत्री निलेश कैबरल ने गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि पर्रिकर आगामी चुनाव के लिए गोवा भाजपा के अभियान के लिए मार्गदर्शक बने रहेंगे.
बता दें कि कई मौकों पर पर्रिकर मेडिकल पैराफर्नेलिया पहने सार्वजनिक रूप से सामने आए हैं.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *