राष्ट्रीयकृत बैंकों से लिए गए 9,000 करोड़ रुपये के ऋण चुकाए बिना देश छोड़कर भाग जाने वाले शराब कारोबारी विजय माल्या को लंदन में स्कॉटलैंड यार्ड द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया, उन्हें वेस्टमिंस्टर कोर्ट में पेश किया जाएगाl
मनी लॉन्डरिंग के आरोप झेल रहे विजय माल्या के प्रत्यर्पण के लिए भारत ने ब्रिटेन से गुज़ारिश की थी, लेकिन फिलहाल यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि उन्हें किस सिलसिले में गिरफ्तार किया गया हैl

पिछले साल विजय माल्या उस समय देश छोड़कर जाने में कामयाब हो गए थे, जब विभिन्न बैंक उनसे ऋण की वसूली की कोशिशों में जुटे हुए थेl बाद में भारत सरकार ने विजय माल्या का पासपोर्ट भी रद्द कर दिया था, और इसी आधार पर यूके की सरकार से उन्हें भारत डिपोर्ट कर देने का आग्रह किया थाl इसके बाद भारतीय विदेश मंत्रालय को जानकारी दी गई कि भारत का डिपोर्टेशन अनुरोध यूके के कानूनों के तहत काम नहीं करेगा, क्योंकि यूके में ऐसे लोगों को भी रहने की अनुमति है, जिनके पासपोर्ट वैध नहीं रहे हैंl बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइन्स शुरू करने वाले विजय माल्या पर सीबीआई ने 1,000 पृष्ठ की चार्जशीट में धोखाधड़ी और साजिश रचने के आरोप लगाए थे. माल्या की गिरफ्तारी के बाद अब सबका ध्यान इस बात पर है कि क्या मोदी सरकार माल्या को भारत ला पाएगीl माल्या के देश छोड़ने के बाद विपक्ष ने मोदी सरकार पर करारा हमला बोला थाl सरकार ने ऐलान किया था कि माल्या को वापस लाया जाएगाl इसके बाद ईडी औऱ सीबीआई समेत तमाम एजेंसियां माल्या को घेरने में जुट गई थींl भारत ने ब्रिटेन से माल्या को लाने के लिए कूटनीतिक चैनल का भी इस्तेमाल किया और ब्रिटेिश सरकार को चिट्ठी भी लिखी थीl अब गिरफ्तारी के बाद सरकार सारी प्रक्रियाओं को पूरा कर माल्या को वापस लाने की कोशिश करेगीl
माल्या की लंदन में गिरप्तारी के बाद वित्त राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने कहा कि सरकार भ्रष्टाचार के मामले को लेकर सख्त है, किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा, सरकार अपनी ओर से पूरी कोशिश करेगीl

loading…



Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *