5 वर्षीया शिवानी है गजब की तीरंदाज, 2024 ओलंपिक की कर रही तैयारी

 75 


जिस उम्र में बच्चे ठीक से पेन- पेन्सिल पकड़ना नहीं सीख पाते उस उम्र में विजवाड़ा की चेरुकुरी डॉली शिवानी अपने तीर-कमान से सटीक निशाना लगाती है। उसने इस छोटी सी उम्र में इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्डस और एशिया बुक ऑफ रिकॉर्डस में अपना नाम दर्ज कराया।
भारतीय तीरंदाजी संघ के अधिकारी शरण कुमार के अनुसार वर्षीया शिवानी ने 10 मीटर की दूरी से मात्र 11 मिनट 19 सेकेंड में 103 तीर दागे। इसके आधे घंटे बाद उसने 20 मीटर की दूरी से पांच मिनट आठ सेकेंड में 36 तीर छोड़े। ऐसा कर उसने कुल 360 में से 290 अंक हासिल किए, जो सराहनीय और अद्भुत है।


शरण ने कहा कि यही नहीं शिवानी ने अपने छोटे- छोटे से हाथों से दो तीर अधिकतम 10 अंक के लिए केंद्र में दागे और 15 तीर 9 अंक के लक्ष्य पर दागे। इससे शिवानी के उच्चकोटि की तीरंदाज होना साबित होता है। शिवानी इससे पहले तीन साल की उम्र में ही 200 अंक हासिल करने वाली देश की सबसे कम उम्र की बच्ची बनी थी। शिवानी के भाई चेरुकुरी लेनिन (अंतरराष्ट्रीय स्तर का तीरंदाज) ने 2010 राष्ट्रमंडल खेल में रजत पदक जीता था।
शिवानी के पिता चेरुकुरी सत्यनारायण की चाहत है कि उनकी बेटी वर्ष 2024 में होने वाले ओलंपिक में हिस्सा ले, जब वह 13 साल की हो जाएगी।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *