गृहमंत्री अमित शाह ने भारी हंगामे के बीच राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने की घोषणा कर दी. साथ ही जम्मू-कश्मीर और लद्दाख अलग- अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाये गये. जम्मू-कश्मीर विधानसभा के साथ ही दिल्ली के समान केंद्र शासित प्रदेश बनेगा.
अमित शाह ने कहा कि अनुच्छेद 370 के कई खंड अब लागू नहीं होंगे, सिर्फ खंड एक रहेगा. इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर को मिला विशेष राज्य का दर्जा खत्म हो गया. सरकार के इस फैसले पर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि भाज्प्पा ने संविधान का मजाक उड़ाया. पुरे विपक्ष ने कहा कि सरकार ने रातों-रात फैसला कर लिया.
इससे पहले सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समिति की बैठक हुई जिसमें प्रधानमंत्री मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री एस जयशंकर और सुरक्षा से जुड़े अधिकारी शामिल थे. इसके बाद कैबिनेट की बैठक हुई. लेकिन कैबिनेट में क्या हुआ, इस बात की जानकारी देने के लिए होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस को टाल दिया गया था.
क्या है धारा 370 :-
1. धारा 370 से JK के नागरिकों को दोहरी नागरिकता, अलग झंडा
2. JK में राष्ट्रध्वज या राष्ट्रीय प्रतीकों का अपमान अपराध नहीं
3. सुप्रीम कोर्ट के सभी आदेश JK में मान्य नहीं
4. रक्षा, विदेश, संचार छोड़कर केंद्र के कानून JK पर लागू नहीं
5. केन्द्रीय कानून लागू करने के लिये JK विधानसभा की सहमति ज़रूरी
6. वित्तीय आपातकाल की धारा 360 JK पर लागू नहीं
7. राष्ट्रपति राज्य का संविधान बर्खास्त नहीं कर सकते
8. हिन्दू-सिख अल्पसंख्यकों को 16% आरक्षण नहीं
9. JK में 1976 का शहरी भूमि कानून लागू नहीं
10. कश्मीर में RTI और RTE लागू नहीं
11. JK विधानसभा का कार्यकाल 5 नहीं 6 वर्ष होता है
क्या है 35A :-
1. 35A को संसद के जरिए लागू नहीं किया गया है
2. शरणार्थी अधिकार से वंचित,जिनमें 80% पिछड़े और दलित हिंदू हैं
3. JK में शादी करने वाली महिलाओं से भेदभाव, अधिकार खत्म
राष्ट्रपति ने अधिसूचना जारी कर जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को खत्म कर दिया. दूसरे सबसे अहम फैसले में जम्मू-कश्मीर अब राज्य नहीं रहा. इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लेह-लद्दाख में बांट दिया गया.
JK में अब तक 22 जिले थे. केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद जम्मू-कश्मीर में 20 और लद्दाख में 2 जिले होंगे. जम्मू-कश्मीर में अनंतनाग, बांदीपोरा, बारामूला, बड़गाम, डोडा, गांदरबल, जम्मू, कठुआ, किश्तवाड़, कुलगाम, पुंछ, कुपवाड़ा, पुलवामा, रामबन, रसाई, राजौरी, सांबा, शोपियां, श्रीनगर तथा उधमपुर जिले होंगे. वहीं लद्दाख में मात्र 2 लेह और कारगिल जिले होंगे. क्षेत्रफल की दृष्टी से 45,110 वर्ग किलोमीटर में फैला लेह भारत का सबसे बड़ा जिला है.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *