मंगलवार को भाजपा द्वारा आयोजित NDA की डिनर बैठक में शामिल 36 घटक दलों के नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सम्मानित किया. एनडीए की इस डिनर डिप्लोमेसी के बाद एक प्रस्ताव पारित कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व की न सिर्फ तारीफ की गई बल्कि मोदी के प्रति अपना विश्वास व्यक्त करते हुए उन्हें अपना नेता चुनने की बात भी कही गई.
दिल्ली के होटल अशोक में आत्मविश्वास से लबरेज़ NDA के घटक दलों ने एक प्रस्ताव पारित किया कि “NDA सच्चे अर्थों में भारत के सपनों और आकांक्षाओं का अलायंस है”. प्रस्ताव में PM और उनके मंत्रियों को उल्लेखनीय कार्यों के लिए बधाई देने के साथ ही भारत को और अधिक सशक्त बनाने के लिए सरकार के कार्यों की सराहना भी की गई.
बैठक के बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि NDA की बैठक में रामविलास पासवान के द्वारा प्रस्तुत प्रस्ताव सर्वसम्मति से पास किया गया. बैठक में ईवीएम पर उठ रहे सवालों को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए संकल्प लिया गया कि आनेवाले वर्षों में हम प्रगति की गति को और तेज करेंगे तथा इन्फ्रास्ट्रक्चर में सौ लाख करोड़ तथा कृषि और ग्रामीण विकास में 25 लाख करोड़ का निवेश किया जाएगा. प्रस्ताव में किसानों की आय को दोगुना करने, अंतरराष्ट्रीय जगत में बढ़ी साख और आतंकवाद की भी चर्चा की गई. पश्चिम बंगाल और केरल में हुई राजनीतिक हिंसा की प्रस्ताव में निंदा हुयी.
इसके पूर्व भाजपा मुख्यालय पर अपने मंत्रि परिषद के सदस्यों के लिए आयोजित ‘स्वागत एवं आभार मिलन समारोह’ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान की तुलना तीर्थयात्रा से करते हुए कहा कि ऐसा लगा जैसे जनता देश के पुनर्जागरण और राष्ट्रीय उत्थान के अभियान में योगदान देने के लिए कृत संकल्पित थी. यह चुनाव केवल पार्टी ने नहीं बल्कि जनता ने भी लड़ा. प्रधानमंत्री ने मंत्रियों को पिछले पांच वर्षों में उनके कामकाज एवं सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को जमीन पर उतारने के लिए एक टीम की तरह से काम करने के लिए आभार भी प्रकट किया.
प्रधानमंत्री ने कहा कि मैंने कई चुनाव देखे हैं लेकिन यह चुनाव राजनीति से परे है, इस चुनाव को स्वयं जनता तमाम तरह की दीवारों को लांघ कर लड़ रही थी. PM ने राष्ट्र निर्माण के लिए NDA के एकजुट होकर काम करने पर जोर दिया.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *