हर कोई अपने नए साल को खास बनाना चाहता है. केवल भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर में गुडलक के लिए लोग तरह-तरह के तरीके आजमाते हैं. नये साल 2019 को और अधिक शानदार बनाने और गुडलक बढ़ाने के लिए 31 दिसंबर की रात कौन सी चीजें खानी चाहिए प्रस्तुत है उन्हीं में से कुछ के बारे में जानकारी….
साल की आखिरी रात पर हरी सब्जियां और दालें खाने से गुडलक आता है. दाल को आर्थिक संपन्नता से जोड़कर देखा जाता है क्योंकि ये सिक्कों की तरह गोल होती है और पानी में भिगोए जाने पर फूल जाती हैं.
नए साल पर सेब भी खाये जाते हैं, क्योंकि इसे प्रेम और फर्टिलिटी का प्रतीक माना जाता है. नए साल से पहले अनार भी खाये जाते हैं. ग्रीक में जितने ज्यादा बीज अनार में होंगे, उतना ज्यादा शुभ है.
पीले और नारंगी रंग के फलों को भी आर्थिक संपन्नता का प्रतीक माना जाता है. चीन समेत कई देशों में लोग नए साल पर संतरा जैसे फल खाते हैं.
नए साल पर गुडलक के लिए अंगूर खाने का भी रिवाज़ है, ताकि आने वाले बारहो महीनों में भाग्य का साथ मिलता रहे. गुडलक के लिए कुछ यूरोपीय देशों और अमेरिका के लोगों में नए साल पर बारह अंगूर खाने का रिवाज़ है.
नूडल्स लंबी आयु का प्रतीक माना जाता है इसे खाने की भी परंपरा है. चीन और जापान में नए साल की पूर्व संध्या पर बिना तोड़े नूडल्स खाने की परंपरा है.
नए साल पर आर्थिक संपन्नता के लिए केक काटने और खाने की परंपरा है. ग्रीस में इसे सिक्के के साथ पकाया जाता है, क्योंकि वहाँ ऐसी मान्यता है कि जिसे सिक्के वाला केक मिलता है, उसके लिए नया साल ज्यादा लकी होगा.
मछली को भी तरक्की और समृद्धि से जोड़कर देखा जाता है क्योंकि ये एक बार में कई अंडे देती हैं. कुछ यूरोपीय देशों में नए साल पर 12 बजते ही फिश को खाए जाने का रिवाज है.
सुअर को तरक्की और सुख का प्रतीक माना जाता है. कुछ लोग सुअर के आकार में कुकीज भी बेक करते हैं. क्यूबा में लोग नए साल पर शुभ मानते हुए सुअर (पॉर्क) खाते हैं.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *